Tattoo side effects | disadvantages of tattoos in hindi | advantages of tattoos in hindi | tattoo ke fayde aur nuksan in hindi

हेल्थ
disadvantages of tattoos
disadvantages of tattoos

Tattoo side effects | disadvantages of tattoos in hindi | advantages of tattoos in hindi | tattoo ke fayde aur nuksan in hindi disadvantages of tattoos in hindi |Tattoo side effects | टैटू के साइड इफेक्ट आपको भी है टैटू बनवाने का क्रेज तो सावधान हो जाएं
Advertisement

Tattoo : आजकल जिसे देखो वह टैटू (Tattoo) बनवा रहा है। बदलते लाइफस्टाइल (Lifestyle) में युवाओं में टैटू (Tattoo) बनवाने का क्रेज, फैशन (Fashion) खासकर युवाओं में अधिक देखने को मिल रहा है, एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि 18 से 35 वर्ष के उम्र की दुनिया की आधी आबादी के शरीर पर किसी न किसी तरह का टैटू बना हुआ होता है।

कुछ लोगो का मानना है की टैटू (tatoo) उनकी स्किन (Skin) पर अलग ही प्रभाव छोड़ता है, हालांकि कुछ लोग शरीर (Body) के किसी खास हिस्‍से पर किसी दाग आदि को छिपाने के मकसद से भी टैटू बनवाते हैं। ऐसे में अगर आपको भी टैटू बनवाने का शौक (Tattoo side effects) है तो अब जरा सावधान हो जाएं । ताकि आपको टैटू बनवाने से पहले और टैटू बनवाने के बाद कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए ।ताकि स्किन पर किसी तरह के इंफेक्‍शन (Skin Infection) आदि का खतरा न रहे।

टैटू किसे कहते है ?

टैटू यानी गुदना (tatoo) को पछेना या अंकन भी कहते हैं। शरीर की त्वचा पर रंगीन आकृतियाँ उत्कीर्ण करने के लिए अंग विशेष पर घाव करके, चीरा लगाकर अथवा सतही छेद करके उनके अंदर लकड़ी के कोयले का चूर्ण, राख या फिर रँगने के मसाले भर दिए जाते हैं। घाव भर जाने पर खाल के ऊपर स्थायी रंगीन आकृति विशेष बन जाती है। गुदनों का रंग प्राय: गहरा नीला, काला या हल्का लाल रहता है।

टैटू बनवाने से पहले इन बातो का ध्यान रखें

48 घंटे पहले ना करें शराब का सेवन – शराब और कैफीन दोनों ही खून को पतला करने के लिए जाने जाते हैं। ऐसे में आपको यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि आप टैटू बनवाने से पहले शराब यह कैफीन का सेवन बिल्कुल भी न करें। खासकर 48 घंटे पहले। अन्यथा यह आपके रक्तस्राव को बढ़ा सकते हैं और टैटू बनवाते समय ब्लड भी आ सकता है।

अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहे – अपने शरीर पर इंक लगवाने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि आप अच्छी तरह से हाइड्रेटेड हों। इसके लिए करीब 1 हफ्ते पहले से पानी का सेवन कर खुद को हाइड्रेट रखें। आपकी हाइड्रेटेड बॉडी यह सुनिश्चित करती है कि सुईं के दबाव को लेने के लिए त्वचा कोमल और लचीली है। यदि आपके शरीर में पानी की कमी होगी, तो यह भी संभावनाएं हैं कि आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाए और आपको टैटू बनवाते समय ज्यादा दर्द का सामना करना पड़े।

टैटू बनवाने के बाद कुछ दिनों तक इन बातो का ध्यान अवश्य रखे

साबुन का यूज ना करें- अपनी स्किन पर किसी तरह का कोई टैटू बनवाने के बाद कुछ समय तक साबुन के इस्‍तेमाल से बचें.क्युकी साबुन में मौजूद केमिकल स्किन को नुकसान पहुंचा सकते हैं. अगर आपको साबुन का इस्‍तेमाल करना ही हो तो विशेषज्ञ की सलाह से ही करें

खुजली को इग्‍नोर बिलकुल ना करें – अक्‍सर टैटू बनवाने के बाद कुछ समय तक स्किन पर खुजली आदि की समस्‍या हो सकती है. ऐसे में अगर यह ज्‍यादा होने लगे या लंबे समय तक रहे तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें. ताकि स्किन संबंधी कोई समस्‍या बढ़ने न पाए.

दर्द होने पर डॉक्‍टर को जरूर दिखाएं – टैटू बनवाने के बाद थोड़ा दर्द रहना आम बात है, लेकिन अगर टैटू बनवाने के कई दिनों बाद तक सूजन और दर्द रहे. और अगर यह बढ़ते जाएं तो डॉक्‍टर को जरूर दिखाएं.

Tattoo Side Effects
Tattoo Side Effects

advantages of tattoos in hindi | Tattoo ke fayade | टैटू के फ़ायदे 

टैटू इम्युनिटी बूस्ट करता है – सुनने में भले ही यह मजाक लग रहा हो लेकिन यह सच है। टैटू आपके इम्यून सिस्टम को बेहतर बना सकता है। दरअसल अमेरिकन जर्नल ऑफ ह्यूमन बायोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन बताता है कि टैटू बनवाने से प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। इसके पीछे का कारण यह है कि यह इम्युनोग्लोबुलिन ए में कम होते हैं। दूसरा यह है कि टैटू बनवाने से प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्तेजित होती है। इम्युनोग्लोबुलिन ए एक एंटीबॉडी है, जो श्वसन प्रणाली की मदद करता है।

स्ट्रेस रिलीज करता है टैटू – अमेरिकन जर्नल ऑफ ह्यूमन बायोलॉजी की यह स्टडी यह भी दावा करती है कि टैटू बनवाने की प्रक्रिया में कोर्टिसोल कम होता है। यह एक तनाव हार्मोन है और इसके बढ़ने से तनाव का स्तर बढ़ जाता है। जब कोई व्यक्ति टैटू बनवाने की प्रक्रिया से गुजरता है, तो यह कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है। नतीजतन, व्यक्ति में तनाव का स्तर कम हो जाता है। तनाव ही आगे चलकर कई बीमारियों और स्वास्थ्य स्थितियों का कारण बन सकता है।

टैटू बढ़ाता है सेल्फ कॉन्फिडेंस – टैटू बनवाने से आपका सेल्फ कॉन्फिडेंस भी बढ़ सकता है। Sciencedirect पर मौजूद एक स्टडी में 2,395 कॉलेज के छात्रों ने टैटू और आत्मसम्मान के बीच संबंध पाया। जिसके अधिक टैटू थे उनमें उतना ही बड़ा आत्मविश्वास देखने को मिला। टैटू आपको स्वयं पर नियंत्रण की भावना देता है।

Tattoo side effects | टैटू का शौक आपके दिल पर भारी पड़ सकता है

टैटू बनवाने से दिल को खतरा हो जाता है. टैटू बनी हुई त्वचा पर ज्यादा पसीना नहीं आता और और जिससे शरीर के ठंडे होने की क्षमता में कमी आती है टैटू बनवाने से त्वचा में लालिमा, मवाद, सूजन जैसी कई तरह की परेशानियां हो सकता हैं। इसके अलावा कई तरह के बैक्टीरियल संक्रमण भी आपको इनसे हो सकते हैं।

पर्मानेंट टैटू के दर्द से बचने के लिए कई लोग नकली टैटू का सहारा लेते हैं। यह तो और भी ज्यादा खतरनाक होता है।और इससे दिल को नुकसान पहुंचता है. ऐसे में हम यहां आपको बताएंगे कि टैटू बनवाने से आपको क्या-क्या नुकसान हो सकता है

disadvantages of tattoos in hindi | Tattoo side effects | टैटू के साइड इफेक्ट

स्किन कैंसर- टैटू बनवाने से सोराइसिस बीमारी के होने का डर रहता है. ऐसे में एक इंसान पर इस्तेमाल की गई सुई का दूसरे इंसान पर इस्तेमाल करने से त्वचा संबंधित रोग, एचआईवी जैसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ सकता है. वहीं इसके अलावा स्किन कैंसर के होने का भी खतरा बढ़ जाता है.

टॉक्सिक इंक्स- टैटू की इंक में कार्सिनोजेनिक नाम का केमिकल मौजूद होते हैं जो गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकते हैं जो गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकते हैं. टैटू बनाने के लिए नीले रंग की स्याही का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें एल्यूमिनियम और कोबाल्ट होता है.जो कि आपकी स्किन के लिए बेहद हानिकारक हो सकता है.

मांसपेशियों को होता है नुकसान- युवा अपनी स्किन पर शौक से टैटू बनवाते हैं लेकिन उसके बाद होने वाले नुकसान अंजान रहते हैं. वहीं कुछ डिजाइन ऐसे होते हैं जिनमें सुइयों को शरीर में गहराई तक चुभाया जाता है. इसके कारण मांसपेशियों को काफी नुकसान पहुंचता है.

हेपेटाइटिस बी का खतरा- टैटू बनवाने से पहले लोगों को हेपेटाइटिस बी टीका जरूर लगवा लेना चाहिए. किसी स्पेशलिस्ट से ही टैटू बनवाएं. इसके अलावा जिस जगह पर टैटू बनवाएं वहां पर हर दिन एंटीबायोटडक क्रीम लगाएं.

disadvantages of tattoos
disadvantages of tattoos

FAQ :

Q : टैटू क्या होता है?

Ans : टैटू सामान्यतय एक डिजाइन है जिसे त्वचा की परत में टैटू को बनाने वाले टूल्स और स्याही, यानी रंग, द्वारा त्यार किया जाता है।

Q : क्या टैटू से कैंसर होता है ?

Ans :टैटू बनवाने से सोराइसिस बीमारी के होने का डर रहता है. ऐसे में एक इंसान पर इस्तेमाल की गई सुई का दूसरे इंसान पर इस्तेमाल करने से त्वचा संबंधित रोग, एचआईवी जैसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ सकता है. वहीं इसके अलावा स्किन कैंसर के होने का भी खतरा बढ़ जाता है

Q : टैटू हटाने का खर्च

Ans : लेजर ट्रीटमेंट – लेजर ट्रीटमेंट महंगा जरूर होता है लेकिन घरेलू उपाय की बजाए लेजर ट्रीटमेंट से टैटू जल्दी हटाया जा सकता है। इसके लिए 3 हजार से 10, 15 हजार रूपए के बीच का खर्च आएगा

Q : टैटू बनवाने में कितना दर्द होता है

Ans : अगर आप कलर टैटू बनवाना चाहते हैं तो आपको 800 रुपया प्रति स्क्वायर इंच और ब्लैक एंड व्हाइट के लिए 600 रुपये प्रति स्क्वायर इंच खर्च करना होगा. अगर आप अस्थायी टैटू बनावान चाहते हैं तो 500 रुपया प्रति डिजाइन कलर के लिए और 200 रुपये प्रति डिजाइन ब्लैक एंड व्हाइट के लिए देना होगा.

Q :टैटू कितने दिन में ठीक होता है?

Ans : टैटू के दर्द को ठीक होने में लगभग 1 सप्ताह लग जाता है और तब आपको खास ध्यान देने की जरूरत होती है

Q : टैटू बनवाने के बाद किन बातो का ध्यान देना चाहिए?

Ans : लोगों को अपना नया टैटू छूने न दें
टैटू क्रीम को दिन में कई बार लगाएं
तेज धूप से बचें
परत को न छीलें

Q : शरीर पर टैटू बनवाने से क्या नुकसान होता है?

Ans : टैटू का शौक आपके दिल पर भारी पड़ सकता है. क्युकी टैटू बनवाने से दिल को खतरा हो जाता है.

Leave a Reply