Teacher’s Day 2021 : शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है,जानें इस दिवस का महत्व, इतिहास और प्रमुख तथ्य

न्यूज़
teachers day
teachers day

Teacher’s Day 2021: प्रतेक वर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है

Teacher’s Day : भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती 5 सितंबर (september)

Advertisement
को होती है. उन्हीं की याद में हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस (Teacher’s Day) मनाया जाता है.

माता पिता और गुरु के बिना एक बच्चे का विकाश और मार्गदर्शन असंभव है। इसलिए प्रतेक व्यक्ति के जीवन में जितना महत्व माता – पिता का हैउतना ही गुरुओ का भी है। इसलिए प्रतेक विधार्थी अपने गुरु को सम्मान देने के लिये टीचर्स डे (Teachers day) का आयोजन करता है।

भारत में 5 सितंबर (september) टीचर्स डे (Teachers day) दिन भूतपूर्व भारत के राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन होता है। उन्ही के जन्मदिन को टीचर्स डे (Teachers day) के रूप में मनाया जाता है। विश्व के कुछ देशों में इस दिन छुट्टी रहती है जबकि कुछ देश इस दिन कार्य करते हुए मनाते हैं।

जिस प्रकार कुम्हार कच्ची मिटटी को आकार दे कर एक खूबसूरत रूप में परिवर्तित कर देता है। ठीक उसी प्रकार एक गुरु (teacher) भी अपने शिष्य को जीवन में आगे बढ़ाने में खास महत्व रखता है।

कहा जाता है कि किसी भी बच्चे के लिए सबसे पहले स्थान पर उसके माता-पिता और फिर दूसरे स्थान पर शिक्षक होते है. शिक्षक एक बच्चे के भविष्य निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देते है. एक शिक्षक के बिना छात्र का जीवन अधूरा रहता है.

यह भी पढ़ें : Savitribai Phule : सावित्रीबाई फुले समाज के भले के लिए समाज के साथ मिलकर समाज से ही लड़ीं

किसी देश का भविष्य उसके बच्चों के हाथों में होता है। शिक्षक गुरु के रूप में छात्रों को भविष्य के रूप में ढाल सकते हैं, जो भारत की नियति को आकार दे। करियर और व्यवसाय में सफलता दिलाने के लिए वो एक महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करते हैं। वे (शिक्षक) हमें अच्छा इंसान, समाज का बेहतर सदस्य बनाने और देश का आदर्श नागरिक बनाने में मदद करते हैं।

क्या हैं शिक्षक दिवस – what is the teachers day

जैसा की हम सब जानते है की एक पक्की नीव पर ही एक सुदृढ़ भवन खड़ा किया जा सकता है. ठीक उसी प्रकार से शिक्षक ही वह व्यक्ति है जो विद्यार्थी रूपी नीव को सुदृढ़ करके उसपर भविष्य में सफलता रूपी सुदृढ़ भवन खड़ा करने में सहायता करता है

और उसे एक सफल इंसान बनाता है. अतः प्रत्येक विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक एक महत्वपूर्ण भूमिका रखता है, इसलिए उसका सम्मान बहोत ही आवश्यक है. जो विद्यार्थी अपने शिक्षक का आदर नहीं करता वह अपने शिक्षक के महत्व से अंजान होता है और भविष्य में पछताता है.

शिक्षक दिवस का महत्व – Importance of teachers day

भारत में गुरु शिष्य आदर कि परंपरा बहुत पुरानी है. एक छात्र के जीवन में उसका उसका शिक्षक ही उसका भविष्य निर्माता होता है यह बात प्रचिन काल से लोग जानते थे. हमारे देश में पहले छात्र आश्रम में रहते थे और शिक्षा ग्रहण करते थे, उन्हे शिक्षा प्राप्ति के लिए कठिन परिश्रम करना पढ़ता था.

बड़े बड़े राजा महाराजा कि संताने भी कठिन परिस्थितियों में आश्रम में रहती थी और शिक्षा ग्रहण करती थी. वें आश्रम में रहकर अपने गुरु कि सेवा भी करते थे और शिक्षा भी ग्रहण करते थे.

छात्र अपने जीवन का एक बहोत बढ़ा हिस्सा शिक्षा ग्रहण करते हुये आश्रम में गुरु कि सेवा में बिताते थे. और गुरु शिक्षा प्राप्ति के बाद अपने शिष्यों से गुरु दीक्षा में मनचाही गुरु दक्षिणा लेते थे, और शिष्य भी बिना हिसके गुरु दीक्षा देने के लिए सबकुछ करते थे.

हमारे देश में एकलव्य और आरुणी जैसे शिष्य भी हुये है जिन्होने अपनें गुरु के आदेश मात्र पर अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था और जन्मजन्मांतर तक के लिए अपना नाम अमर कर दिया. परंतु आज के समय में शिक्षा प्रणाली और गुरुओं कि स्थिति में काफी परिवर्तन आया है. आज शिक्षक को उसकी शिक्षा का मूल्य विद्यार्थी पैसों के रूप में देता है.

आज विद्यार्थियों के मन में शिक्षक का सम्मान भी वैसा नहीं रहा. आज के युग में शिक्षक के महत्व को बनाए रखने के लिए शिक्षक दिवस जैसे दिन का निर्धारण बहोत जरूरी था, ताकि इस दिन सभी विद्यार्थी व्भिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से अपने गुरु कि महिमा को जन पाये और उनका सम्मान करे.

शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है- when is Teachers Day celebrated

वैसे तो शिक्षक सम्मान के लिए किसी दिन के मोहताज नहीं परंतु फिर भी कई देशों में शिक्षकों के सम्मान के लिए एक विशेष दिन घोषित किया गया है. भारत में शिक्षक दिवस डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के दिन 5 सितंबर को मनाया जाता है. सभी स्कूल कॉलेजों में यह दिन पूर्ण रूप से शिक्षकों के लिए समर्पित होता है. इस दिन विद्यार्थी अपने शिक्षक के लिए विभिन्न तरीको से सम्मान व्यक्त करते है.

अलग अलग देशों में शिक्षक दिवस अलग अलग तारिक को मनाया जाता है जैसे यूएस में मई के पहले सप्ताह के पहले मंगलवार को शिक्षक दिवस मनाया जाता है वही थायलैंड में 16 जनवरी को शिक्षक दिवस मनाते है.

यह भी पढ़ें : Sarvepalli Radhakrishnan : डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन जीवन परिचय

ईरान में 2 मई को शिक्षक दिवस मनाते है तो टर्की में 24 नवम्बर को, मलेशिया में 16 मई को शिक्षक दिवस मनाते है. चाइना में 10 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है. युनेस्को में 1994 के बाद शिक्षक दिवस मनाया जाने लगा और यह दिन वहाँ 5 अक्टूबर को मनाया जाता है.

teachers day
teachers day

शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है – Why is Teachers Day celebrated

भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है, इस दिन डॉ सर्वपल्ली राधा कृष्णन का जन्मदिन होता है. डॉ राधाकृष्णन का शिक्षा के प्रति विशेष रुझान था, उनका मानना था कि बिना शिक्षा के व्यक्ति अपनी मंजिल तक नहीं पंहुच सकता. वे कहते थे व्यक्ति के जीवन में शिक्षा का बहुत महत्व है,

एक अच्छा शिक्षक विद्यार्थी के मस्तिक्ष में तथ्यों को ठुसने की बजाय वह उसे भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार करता है. डॉ साहब ने स्वयं भी अपने जीवन के महत्वपूर्ण 40 साल शिक्षा के क्षेत्र में दिये और कई विध्यार्थियों को भविष्य के लिए तैयार किया.

बाद में वे आजाद भारत के उपराष्ट्रपति और फिर राष्ट्रपति बने. डॉ राधाकृष्णन का शिक्षा के प्रति रुझान देखते हुये उनके जन्मदिन को ही भारत में शिक्षक दिवस घोषित किया गया. यह उनके और उनके द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में दिये गए योगदान को देश वासियों का सबसे बड़ा सम्मान है.

शिक्षक दिवस कैसे मनाया जाता है – how is Teachers Day celebrated

शिक्षक दिवस मतलब शिक्षकों का दिन इस दिन विभिन्न स्कूल कॉलेजों में शिक्षकों के सम्मान में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते है. इस दिन शिक्षण संस्थानों कि छुट्टियाँ होती है,

और विद्यालयों में विद्यार्थियों के द्वारा शिक्षकों के सम्मान में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते है, उनके द्वारा अपने शिक्षकों को विभिन्न उपहार दिये जाते है. वैसे तो गुरु शिष्य का रिश्ता एक अनुशासन और सम्मान साझा करता है,

परंतु इस दिन वे अपने बीच के अंतर को दूर कर शिष्य अपने मन के प्रत्येक भाव को अपने शिक्षक के सम्मान में विकत करता है और अपने शिक्षक को स्पेशल फील करवाता है.

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शिक्षक दिवस 5 अक्टूम्बर को मनाया जाता है, साल 1966 में इस दिन एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया. इस सम्मेलन में टीचिंग इन फ़्रीडम संधि पर हस्ताक्षर किये गए,

इस संधि के द्वारा शिक्षकों के अधिकार उनकी ज़िम्मेदारी उनके सीखने सीखाने के नियम संबन्धित नियमों पर विचार किया गया. 1977 में पुनः एक सम्मेलन आयोजित हुआ जिसमें उच्च शिक्षा से जुड़े शिक्षकों कि स्थिति पर युनेस्को ने विचार किया. शिक्षण को प्रोत्साहित करने के लिए हर साल युनेस्को द्वारा इस दिन को मनाया जाता है

शिक्षक दिवस शिक्षकों के सम्मान में मनाया जाता है। परन्तु इस वर्ष (2021 ) भी covid के कारण अन्य उत्सवों की भाती यह उत्सवों भी सभी लोग अपने घरो में 5 सितंबर (september) को ऑनलाइन मनाएंगे

प्रश्न 1- वर्ल्ड टीचर डे (शिक्षक दिवस) कब मनाया जाता हैं ?
उत्तर –वर्ल्ड टीचर्स डे 5 अक्टूबर को मनाया जाता है, इसी दिन दुनिया के 21 देश इसे बड़ी धूमधाम से मनाते है.

प्रश्न 2- अन्य देशों में टीचर्स डे कब मनाया जाता हैं ?
उत्तर – 28 फ़रवरी को दुनिया के 11 देश टीचर्स डे मनाते है.

प्रश्न 3- भारत में शिक्षक दिवस कब मनाया जाता हैं ?
उत्तर – प्रतिवर्ष 5 सितम्बर

प्रश्न 4- भारत में पहली बार शिक्षक दिवस कब मनाया गया था ?
उत्तर – 1962

प्रश्न 5- भारत में शिक्षक दिवस की स्थापना किसने की थी ?
उत्तर – कांग्रेस पार्टी

प्रश्न 6- भारत में 5 सितम्बर को ही शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता हैं ?
उत्तर – वैसे भारत में गुरु का बहुत महत्व हैं जिसके लिए गुरु पूर्णिमा मानी जाता हैं लेकिन 1962 में देश के पूर्व राष्ट्रपति जो कि एक महान शिक्षक थे उन्हें सम्मानित करते हुये उनके जन्म दिवस को शिक्षक दिवस के रूप में शुरू किया गया इसलिए इस दिन भारत में शिक्षक दिवस मनाया जाता हैं

Leave a Reply