Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास

Sports News
Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास
Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास

Tokyo Olympics : मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) जब छोटी थीं तब वो और उनके भाई जंगलों से लकड़ियां लाया करते थे। मीराबाई भारी से भारी लकड़ियों के बंडल को आसानी से उठा लेती थीं जबकि उनके भाई ऐसा नहीं कर पाते थे।

Advertisement

टोक्यो ओलंपिक के पहले दिन वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने भारत को मेडल दिला दिया है। 49 किलो वर्ग वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू ने सिल्वर मेडल जीता है। टोक्यो ओलंपिक में ये भारत का पहला मेडल है। मीराबाई चानू के मेडल जीतते ही पूरे देश में खुशी है।

जब वो 12 साल की थीं तब उनके परिवार ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और फिर उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। देश के लिए एक से बढ़कर एक उपलब्धि अपने नाम करने वाली मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) 2020 में 49 किलोग्राम भारवर्ग प्रतियोगिता में रजत पदक जीतकर इतिहास रच दिया।

मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) की इस कामयाबी पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उन्हें बधाई दी है.यह पहली बार है, जब भारत ने टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) के पहले दिन पदक जीता. वे वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं। उनके अलावा भारत के सुमित नागल टेनिस में दूसरे दौर में पहुंच गए हैं।

वो 1996 के बाद मेंस सिंगल्स के दूसरे दौर में पहुंचने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। इसके अलावा गोल्ड मेडल के प्रबल दावेदार शूटर सौरव चौधरी 10 मीटर एयर पिस्टल के फाइनल इवेंट में क्वालीफाइंग राउंड जैसा प्रदर्शन नहीं कर सके और सातवें स्थान पर रहे।

पुरुष हॉकी टीम ने अपने अभियान की शुरुआत न्यूजीलैंड को हराकर की। वहीं भारतीय महिला हॉकी टीम नीदरलैंड्स से 5-1 से हार गई। भारत के मुक्केबाज विकास कृष्णन भी ओलंपिक से बाहर हो गए। 69 किग्रा वर्ग के राउंड ऑफ-32 में जापानी बॉक्सर ओकाजावा से कृष्णन को 5-0 से हार मिली।

Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास
Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास

आइये अब जानते है देश का गौरव बढ़ाने वाली और इतिहास रचने वाली मीराबाई चानू के बारे में

मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) एक भारतीय खिलाड़ी है जिन्होंने हाल ही में कॉमन वेल्थ गेम्स (Tokyo Olympics) में इंडिया को वेटलिफ्टिंग में पहला गोल्ड मैडल दिलवाकर गौरवान्वित किया है. इस दौरान मीराबाई ने 6 लिफ्टिंग में 6 रिकॉर्ड तोड़े और महिलाओं की वेटलिफ्टिंग में 48 किलोग्राम में पहला स्थान हासिल किया।

इसी साल भारत सरकार ने भी इन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया है, जो कि एक बहुत बड़ा सम्मान है. मीराबाई इंडिया में मणिपुर की रहने वाली है। इनके विभिन्न प्रतियोगितओं में प्रदर्शन को देखते हुए इंडिया को इनसे आगे भी कई उम्मीदें है।

साइखोम मीराबाई चानू रजत पदक

हालही में टोक्यो ओलिंपिक में मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने भारत को वेट लिफ्टिंग में 49 किलोग्राम केटेगरी में रजक पदक जीतकर गौरवान्वित किया है। इससे भारत को सन 2021 के ओलिम्पिक में पहला पदक हासिल हो गया है।

साइखोम मीराबाई चानू जन्म – Date of Birth

मीराबाई चानू का जन्म मणिपुर के इम्फाल में हुआ। यह मणिपुर के पूर्व में स्थित है. इनकी जन्म तारीख 8 अगस्त 1994 है. इस हिसाब से इनकी अब तक उम्र मात्र 23 साल है. इनकी शिक्षा भी यही से शुरू हुई ।

साइखोम मीराबाई चानू कोच – Mirabai Chanu Coach

वेट लिफ्टिंग (Tokyo Olympics) में मीरा की कोच कुंजरानी देवी है जो खुद भी वेट लिफ्टिंग में एक भारतीय खिलाड़ी है। कुंजरानी भी इम्फाल मणिपुर की ही रहने वाली है।

साइखोम मीराबाई चानू वर्ल्ड रिकार्ड्स – Mirabai Chanu World Records

मीराबाई ने मात्र 24 वर्ष की उम्र में कई रिकॉर्ड अपने नाम किये है जिसकी जानकारी नीचे दी गई है।

मीराबाई एक महिला वेट लिफ्टर है, जिन्होंने साल 2017 में हुई वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में 48 किलोग्राम वर्ग में गोल्ड मैडल हासिल किया था। इसके पहले साल 2014 में भी इन्होने ग्लासगो में संपन्न हुए कॉमन वेल्थ गेम्स में भी 48 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मैडल जीता था।

इस वर्ष 2018 में भी इन्होने कॉमन वेल्थ गेम्स में गोल्ड हासिल कर इंडिया को पहला गोल्ड दिलवाया. यह गोल्ड भी महिलाओं की 48 किलोग्राम वेट लिफ्टिंग में है।

मीराबाई का चयन 2016 में संपन्न रिओ ओलिंपिक में भी हुआ था, परंतु दुर्भाग्यवश वे इस दौरान इंडिया के लिए कोइ मैडल नहीं ला पाई थी ।
इन्होने साल 2016 में गुवाहाटी में संपन्न हुए बारहवे साउथ एशियन गेम्स में भी गोल्ड मैडल हासिल किया था।

Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास
Tokyo Olympics: वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने रचा इतिहास

सम्मान : खेलों में इनके बेहतर प्रदर्शन और लगन के चलते मणिपुर के मुख्यमंत्री ने भी इन्हें 20 लाख की राशि प्रदान की थी।और अपने प्रदर्शन से इन्होने अपना, मणिपुर और इंडिया का नाम रोशन किया।

मीरा बाई के अलावा आज सुबह गुरुराजा ने भी वेटलिफ्टिंग में सिल्वर मैडल हासिल कर भारत का नाम रोशन किया. इस वर्ष साल 2018 में यह कॉमन वेल्थ गेम्स 4 अप्रैल से शुरू हुए और 15 अप्रैल तक चलेंगे।

इस खेल में पुरुष वर्ग में 115 और महिला वर्ग में कुल 105 खिलाडी इस दौरान विभिन्न खेलों में हिस्सा लेंगे और इंडिया का प्रतिनिधित्व करेंगे। साल 2014 में हुए कॉमन वेल्थ गेम में इंडिया ने कुल 15 गोल्ड, 30 सिल्वर और 19 कस्य पदक जीते थे।

इस वर्ष भी इंडिया को अपने खिलाड़ियों से बहुत उम्मीदे है, दर्शक आस लगाये बैठे है कि वे विभिन्न मैडल जीत देश का नाम रोशन करेंगे।

2 comments

  • Nice⚡⚡👌❤ 🇮🇳🇮🇳 ❤❤
    जय हिंद जय भारत 🇮🇳🇮🇳❤❤

    • thank you हेल्थ (health) आस्था (Aastha) या किसी और टॉपिक के विषय में जान्ने के लिए आप मेरे यूट्यूब चैनल (youtube channel) को भी subscribe all कर सकते है। ये मेरा https://www.youtube.com/c/SangeetasPen यूट्यूब लिंक है ।

Leave a Reply