Watermelon Benefits, Uses and Side Effects in Hindi Tarbuj ke fayde, nuksan तरबूज के फायदे, उपयोग और नुकसान

हेल्थ
Watermelon Benefits, Uses and Side Effects in Hindi| tarbuj ke fayde nuksan
Watermelon Benefits, Uses and Side Effects in Hindi| tarbuj ke fayde nuksan

Watermelon : तरबूज कई जरूरी पोषक तत्वों से भरा है, इसलिए यह शरीर से जुड़ी कई परेशानियों को दूर करने का काम कर सकता है। गर्मियों के मौसम में आने वाला यह फल आपको सेहत से जुड़े कई लाभ देता है. यह पानी से भरपूर फल है, जो इस गर्म मौसम में शरीर में पानी की पूर्ती करने में मददगार है.

Advertisement

मुंह में जाते ही यह आपके गले को तर कर देता है और साथ ही दिलाता है गर्मी से राहत. यह न सिर्फ प्यास बुझाता है, बल्कि पेट को भी भरा भरा महसूस कराता है. आम के बाद अगर गर्मियों में लोग किसी फल का इंतजार करते है तो वह है तरबूज

tarbuj  : तरबूज फाइबर, पोटैशियम, आयरन और विटामिन-ए, सी व बी से समृद्ध होता है, लेकिन इस फल को सबसे ज्यादा खास इसमें मौजूद लाइकोपीन नामक तत्व बनाता है। यह तत्व एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है और इसी से फल को गहरा लाल रंग मिलता है।

तरबूज का इतिहास – History of Watermelon in Hindi

तरबूज आकार में बड़ा होता है। यह अंदर से लाल और बाहर से हरा होता है। तरबूज में 90 प्रतिशत से ज्यादा पानी होता है। तरबूज मीठा, स्वादहीन और कड़वे तीनों रूपों में पाया जाता है। इसकी उत्पत्ति का स्थान दक्षिण अफ्रीका के कालाहारी मरुस्थल के आसपास बताया जाता है। कहा जाता है कि तरबूज की पहली फसल मिस्र में लगभग 5 हजार साल पहले उगाई गई थी। तरबूजों को अक्सर राजाओं की कब्रों में रखा जाता था, ताकि वो जिंदगी के बाद भी उन्हें पोषित कर सकें।

तरबूज में पाए जाने वाले तत्वों

तरबूज में विभिन्न विटामिंस (vitamins), डाइटरी फाइबर, मिनरल्स (minerals) और स्ट्रॉन्ग एंटीऑक्सीडेंट्स (antioxidants) पाए जाते हैं। तरबूज (Watermelon)में विटामिन सी (Vitamins C) और विटामिन ए(Vitamins A) जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं और साथ ही इनमें लाइकोपिन (antioxidant lycopene) नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। इसके अलावा तरबूज में पाए जाने वाले कुछ तत्वों को कैंसर से बचाने वाले (cancer-fighting properties) और कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ (cardiovascular health) को सुधारने में कारगर पाया गया है।

  • पानी से भरपूर यह फल गर्मियों में जितना खा सकते हैं खाएं. यह आपको गर्मी की तपन से बचाएगा और शरीर को हाइड्रेट रखेगा. और हां,
  • तरबूज का लाल हिस्सा ही नहीं. उसका सफेद भाग में सेहत के लिए फायदेमंद है. सफेद भाग यानी उसका छिलका आपको कई रोगों से बचा सकता है. तरबूज के छिलके में मैग्नीशियम, पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी, विटामिन ए और जिंक की भरपूर मात्रा में होता है.
  • तरबूज में विटामिन ए का अच्छा स्रोत माना जाता है, जो आपकी आंखों और दिल के लिए अच्छा है.
  • तरबूज खाने से कब्ज की समस्या दूर की जा सकती है. क्योंकि यह फाइबर और पानी से भरपूर है.
  • Benefits: 100 ग्राम तरबूज में 0.2 मिलीग्राम आयरन होता है.
  • शरीर में खून की कमी दूर करने में तरबूज मददगार हो सकता है. यह हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ाने में अच्छा साबित हो सकता है. यह विटामिन सी और आयरन की सामग्री में समृद्ध है. तरबूज आयरन के बेहतर अवशोषण में मदद कर सकता है. यूएसडीए के अनुसार, 100 ग्राम तरबूज में 0.2 मिलीग्राम आयरन होता है.
  • तरबूज में पोटैशियम भरपूर मात्रा में होता है. जो इलेक्ट्रोलाइट फंक्शन को बनाए रखने में मददगार है. यह दिल की सेहत और हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है.
  • तरबूज में लाइकोपिन होता है, जो त्वचा की चमकदार और जवां बनाए रखने में मददगार है.
Watermelon  Benefits, Uses and Side Effects in Hindi| tarbuj ke fayde nuksan
Watermelon Benefits, Uses and Side Effects in Hindi| tarbuj ke fayde nuksan

किन लोगों को नहीं करना चाहिए तरबूज का सेवन? Who should not eat Watermelon:

हर हेल्दी फूड के सेवन के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी जुड़े होते हैं। अधिक मात्रा में तरबूज का सेवन करने से नुकसान (side effects of eating too much watermelon) होता है और वहीं, कुछ लोग ऐसे भी ही हैं जिनके लिए तरबूज का सेवन बहुत हानिकारक साबित हो सकता है। कुछ ऐसी स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में जिनमें तरबूज का सेवन नहीं करना चाहिए। (Who should not eat Watermelon In Hindi)

क्यों नहीं खाना चाहिए रात में तरबूज 

तरबूज जैसे रसीले फलों में वॉटर कंटेंट हाई होने के कारण पेट तो भर जाता है लेकिन पानी की अधिक मात्रा को पचा पाना रात में मुश्किल हो सकता है। इससे बाउल इरिटेशन (bowel irritation) जैसी समस्याएं हो सकती हैं। दरअसल, दिन की तुलना में रात में पाचन प्रक्रिया धीमी गति से काम करती है। इसीलिए, रात में तरबूज खाने से गैस्ट्रिक समस्याएं (gastric issues) हो सकती हैं और पेट में दर्द, असुविधा, पेट फूलने जैसी परेशानियां महसूस हो सकती हैं। इसके अलावा रात में तरबूज खाने से वेट गेन या मोटापे का रिस्क भी बढ़ता है।

बढ़ सकती है पैरों में सूजन की समस्या – तरबूज में पानी की मात्रा अधिक होने के कारण इसके सेवन करने के बाद पैरों में सूजन की समस्या (swelling of legs) भी बढ़ सकती है। इसी तरह आर्थराइटिस के मरीजों के लिए घुटने में दर्द की समस्या भी तरबूज खाने से बढ़ सकती है।

पेट फूलने की परेशानी – बहुत कम लोगों को इस बात की जानकारी है कि गर्मियों मे पेट फूलने की समस्या होने की एक वजह तरबूज जैसे फलों का सेवन भी हो सकता है। अधिक मात्रा में तरबूज का सेवन करने से ओवर हाइड्रेशन (over hydration), ब्लोटिंग (bloating), किडनी से जुड़े समस्याएं (weaker kidneys) और सोडियम की कमी (loss of sodium) जैसी समस्याए हो सकती हैं। इसी तरह तरबूज खाने से रात में बार-बार पेशाब आ सकती है जिससे ठीक तरीके से सो पाना भी मुश्किल हो सकता है।

हाई ब्लड शुगर – तरबूज का सेवन उन लोगों के लिए हानिकारक साबित हो सकता है जो डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं क्योंकि, इस फल में नेचुरल शुगर (natural sugar content) की मात्रा बहुत अधिक होती है। डायबिटीज में नेचुरल शुगर का भी अधिक मात्रा में सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल शूट अप हो सकता है।

Watermelon Benefits, Uses and Side Effects in Hindi| tarbuj ke fayde nuksan
Watermelon Benefits, Uses and Side Effects in Hindi| tarbuj ke fayde nuksan

तरबूज का चयन और लम्बे समय तक सुरक्षित रखना – Selection and Storage of Watermelon in Hindi

  • आपको ताजे तरबूज की तलाश करनी होगी, जो कहीं से कटा हुआ न हो।
  • आप तरबूज छोटा या बड़ा ले सकते हैं, जिसका वजन भारी हो। इसका अर्थ है कि यह पानी से भरा है।
  • आपको फील्ड स्पॉट की तलाश करने होगी। यह तरबूज की बाहरी परत का वो क्षेत्र है, जो जमीन से सटा रहता है और धूप के कारण पीला पड़ जाता है। अगर फील्ड स्पॉट का रंग सफेद है, तो आप समझ जाइए कि इसे जल्द ही तोड़ लिया गया है।
  • यदि आप कटा हुआ तरबूज ले रहे हैं, तो हमेशा चमकीले लाल रंग के टुकड़ों का चुनाव करें, जिनके बीज का रंग काला या गहरा भूरा हो।
  • सफेद लकीरों वाले टुकड़ों से बचें या जिनमें बहुत अधिक सफेद बीज हों।

स्टोर

रेफ्रिजरेटर में एक पूरा तरबूज दो सप्ताह तक स्टोर किया जा सकता है। फल को सावधानीपूर्वक रखें। इस बात का ध्यान रखें कि आपके रेफ्रिजरेटर का तापमान 4 डिग्री सेल्सियस से नीचे न हो। इसके अलावा, इसे कुछ दिनों रूम तापमान में भी रखा जा सकता है।
अगर आप एक बार में तरबूज को पूरा नहीं खाने चाहते हैं, तो बाकी का कटा हुआ तरबूज किसी एयर टाइट कंटेनर में रखकर तीन-चार दिन के लिए फ्रीज में स्टोर कर सकते हैं। कटे हुए तरबूज को जल्दी खाने की कोशिश करें।

तरबूज का उपयोग – How to Use Watermelon in Hindi

वॉटरमेलन सलाद
सामग्री :
आधा कटा हुआ प्याज
पांच कप कटे हुए तरबूज
दो खीरे, गोल-गोल कटे हुए
कटे हुए काजू एक कप
150 ग्राम चीज
एक मुट्ठी ताजा बारीक कटा हुआ पुदीना
एक कप जैतून का तेल
एक नींबू का रस
एक चुटकी नमक

बनाने की प्रक्रिया 

जैतून का तेल, नींबू का रस और नमक को छोड़कर, एक कटोरे में सभी सामग्री मिला लें।
अब मिश्रण में जैतून का तेल और नींबू का रस मिलाएं।
अंत में नमक का छिड़काव करें।

वॉटरमेलन डोनट्स

सामग्री :
एक तरबूज (बीज निकाला हुआ)
खट्टी मलाई (आवश्यकतानुसार)
स्वाद के लिए चीनी
वनिला रस (स्वाद के लिए)
बारीक पतले कटे हुए थोड़े से बादाम

बनाने की प्रक्रिया 

तरबूज को डोनट आकार में गोल-गोल काटें और बीच में एक बड़ा छेद कर दें।
खट्टी मलाई में चीनी और थोड़ा वनीला रस मिलाएं।
अब तरबूज के टुकड़ों को मिश्रण में डुबोएं और ऊपर से बादाम का छिड़काव करें।
अंत में आपको तरबूज के टुकड़ों को फ्रिज में एक-दो घंटे के लिए रखना होगा।
इसके बाद वॉटरमेलन डोनट्स का आनंद उठाएं।

तरबूज से जुड़े रोचक तथ्य – Stunning Watermelon Facts in Hindi

  • आपको जानकर हैरानी होगी कि अब तक के सबसे बड़े तरबूज का वजन 122 किलो दर्ज किया गया है। यह रिकॉर्ड 2005 में होप अरकांसा बिग वाटरमेलन प्रतियोगिता के दौरान दर्ज किया गया था।
  • तरबूज की 1,200 से अधिक किस्में हैं, जो दुनिया भर में उगाई जाती हैं।
  • कच्चे टमाटर की तुलना में तरबूज में 40% अधिक लाइकोपीन होता है।
  • आपको जानकर हैरानी होगी कि जापान में चौकोर तरबूज उगाया जाता है। इसके लिए वो तरबूज को शुरू से चौकोर
  • कांच के बक्सों के अंदर रखते हैं, जिससे फल बढ़ने के साथ कंटेनर का आकार ले लेता हैं।
  • तरबूज एक फल और सब्जी दोनों है। इस फल के छिलकों की सब्जी बनाई जाती है।

FAQ :

Q : तरबूज खाने के बाद क्या नहीं खाना चाहिए?

Ans : पानी नहीं पीना चाहिए
खट्टी चीजें ना खाएं
गर्म चीजें ना खाएं

Q : तरबूज खाने के कितनी देर बाद पानी पीना चाहिए?

Ans : तरबूज खाने के लगभग 2 घंटे बाद पानी पीना बाद पानी पीना चाहिए ।

Q : तरबूज के साथ कौन सा फल नहीं खाना चाहिए?

Ans : तरबूज अगर चावल या दही खाने के बाद खाया जाए तो वह स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित होगा. तरबूज कभी भी सुबह खाली पेट नहीं खाना चाहिए. क्योंकि तरबूज को खाली पेट खाने से हमें उल्टी अथवा पेट से संबंधित और कई समस्याओं की सामना करना पढ़ सकता है.

Q : तरबूज खाने से क्या शुगर बढ़ता है?

Ans : मधुमेह के रोगी को उन फलों का सेवन करना चाहिए जिनका ग्लाइकेमिक इंडेक्स कम होता है। लेकिन तरबूज की बात करें तो इसका ग्लाइकेमिक इंडेक्स करीब 72 है। नेशनल सेंटर फॉर बायो टेक्नोलॉजी इंफार्मेशन के शोधकर्ताओं के अनुसार डायबिटीज पेशेंट सीमित मात्रा में तरबूज का सेवन कर सकते हैं। हालांकि उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अधिक मात्रा में इसका सेवन करना उनके लिए हानिकारक हो सकता है।

Leave a Reply