What are the top 9 types of aerobic exercises| Benefit and Side Effects of Aerobic Exercise in Hindi

हेल्थ
What are the top 9 types of aerobic exercises? | Benefit and Side Effects of Aerobic Exercise in Hindi
top 9 types of aerobic exercises

Aerobic Exercise In Hindi : शरीर को फिट रखने के लिए अन्य व्यायामों की तरह ही एरोबिक एक्सरसाइज भी एक तरह का व्यायाम है। इस लेख में आप जानेंगे एरोबिक व्यायाम क्या है, एरोबिक व्यायाम प्रकार, एरोबिक एक्सरसाइज कैसे की जाती है एरोबिक एक्सरसाइज के फायदे, लाभ और नुकसान क्या होते हैं।

एरोबिक एक्सरसाइज का अभ्यास हमारे दैनिक जीवन से बहुत अधिक जुड़ा होता है। जैसे यदि हम नृत्य या तैराकी करते हैं या फिर सुबह शाम तेजी से टहलते हैं और तेजी से सीढ़ियां उतरते चढ़ते हैं तो इसका अर्थ यह है कि हम एरोबिक एक्सरसाइज कर रहे हैं। आइये एरोबिक एक्सरसाइज को विस्तार जानते हैं।

Advertisement

एरोबिक एक्सरसाइज क्या है – What Is Aerobic Exercise In Hindi

एरोबिक व्यायाम एक शारीरिक गतिविधि है, इसे करने के दौरान शरीर में रक्त पंप होता है और कई मांसपेशियों का समूह एक साथ कार्य करता है। एरोबिक का अर्थ ऑक्सीजन की उपस्थिति होता है। इसलिए इसे कॉर्डियोवैस्कुलर एक्टिविटी (cardiovascular activity) भी कहा जाता है।

टहलना, जॉगिंग करना, बाइकिंग, डांसिंग, तैराकी (swimming) आदि एरोबिक एक्सरसाइज के अंतर्गत आते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि प्रत्येक व्यक्ति को सप्ताह में 150 मिनट मध्यम एरोबिक (moderate aerobic) एक्सरसाइज और 75 मिनट तक तक तेज गतिविधियां (vigorous activity) करनी चाहिए।

तेज चलना(Brisk walking), सीढ़ियां उतरना चढ़ना आदि मध्यम एक्टिविटी के उदाहरण हैं जबकि दौड़ना, साइकिल चलाना आदि तेज गतिविधि (vigorous activity) के उदाहरण हैं।

एरोबिक एक्सरसाइज के प्रकार – Types of Aerobic Exercises in Hindi

आपको बता दें कि एरोबिक एक्सरसाइज कई तरह के एक्सरसाइजों का समूह है। लेकिन आमतौर पर वजन घटाने और शरीर को फिट रखने के लिए ज्यादातर लोग एरोबिक व्यायाम का सहारा लेते हैं। एरोबिक एक्सरसाइज के अंतर्गत सीढ़ियां चढ़ना उतरना (Stair Training), बर्पिज (Bur-pees),

जंपिंग जैक्स (Jumping Jacks), स्क्वैट्स जंप (Squat Jumps), फ्लूटर किक (Flutter Kick), डंकी किक (Donkey Kick), जंपिंग लंगेस (Jumping Lunges), स्कैटर्स (Skaters) आदि आते हैं। इनमें से हम आपको वजन घटाने के लिए कुछ आसान से एरोबिक एक्सरसाइज के बारे में बता रहे हैं।

एरोबिक एक्सरसाइज के प्रकार – Types of Aerobic Exercise in Hindi

डांस एरोबिक Dancing Aerobic Exercise For Weight Loss In Hindi   मस्ती के साथ-साथ सेहत का ध्यान रखने के लिए डांस एरोबिक किया जा सकता है। डांसिंग एक बेहतरीन एरोबिक एक्सरसाइज है। डांस करने से शरीर से काफी तेजी से पसीने का स्राव (release) होता है।

इससे शरीर का फैट तो कम होता ही है साथ में शरीर के विषाक्त पदार्थ भी बाहर निकल आते हैं जिससे वजन कम होने में मदद मिलता है।इसके लिए एरोबिक प्रशिक्षक (इंस्ट्रक्टर) संगीत के साथ डांस स्टेप करवाते हैं। इसे ज्यादातर समूह के साथ किया जाता है।

स्विमिंग : अच्छी सेहत के लिए स्विमिंग को सबसे अच्छा माना गया है। यह एक ऐसी एरोबिक एक्सरसाइज है इस एरोबिक एक्सरसाइज में एक साथ पूरे शरीर की एक्सरसाइज हो जाती है।तैराकी करने से कंधों, भुजाओं, कमर, पीठ, पेट और पैर एकसाथ टोन होने में मदद मिलता है। अतिरिक्त कैलोरी घटाने के लिए यह एक बेहतरीन एरोबिक एक्सरसाइज है। इसे करते समय शरीर के लगभग सभी अंगों का इस्तेमाल होता है।

जॉगिंग एरोबिक एक्सरसाइज – Jogging Aerobic Exercise For Weight Loss In Hindi – यह एक उच्च कॉर्डियो एक्टिविटी है जिससे शरीर की वसा तो घटती ही है साथ में शरीर को पर्याप्त स्टैमिना भी मिलता है। प्रतिदिन जॉगिंग करने से स्वास्थ्य बेहतर रहता है।

जुंबा Zumba Aerobic Exercise For Weight Loss In Hindi – यह एक प्रकार का डांस है और इसे भी एरोबिक का एक प्रकार माना गया है। यह एक विशेष प्रकार का डांस है जो वजन घटाने और शरीर को बेहतर आकृति प्रदान करने में मदद करता है। वजन कम करने के लिए महिलाओं के बीच जुंबा नृत्य बहुत लोकप्रिय है।इसे करने के लिए संगीत का प्रयोग किया जाता है।

स्किपिंग (रस्सी कूदना) Skipping Aerobic Exercise For Weight Loss In Hindi – रस्सी कूदना भी एक प्रकार से एरोबिक एक्सरसाइज है। इसके लिए एक स्किपिंग रोप का इस्तेमाल किया जाता है। रस्सी कूदने से शरीर के संपूर्ण हिस्सों की एक्सरसाइज एक साथ हो जाती है। यह शरीर को टोन करने और शरीर पर जमा अतिरिक्त फैट को घटाने में मदद करता है। शुरुआत में इसे प्रशिक्षक की देखरेख में और धीरे-धीरे करें। इसे करते समय सावधानी बरतें, ताकि आपके पैर में रस्सी न फंस जाए।

वॉकिंग और रनिंग (चलना और दौड़ना)  यह एरोबिक एक्सरसाइज का सबसे आसान तरीका है। शुरुआत में धीरे-धीरे वाकिंग करें और फिर बाद में स्पीड बढ़ाते हुए रनिंग करें। बेहतर परिणाम के लिए इसे सुबह या शाम को पार्क में करें।

जंपिंग जैक: इसे करते समय आप सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाएं। फिर कूदते हुए पैरों को फैलाएं और हाथों को ऊपर की ओर ले जाएं। फिर कूदते हुए पहले वाले स्थिति में आ जाएं। जिस समय पैर फैलाएं उसी समय हाथों से ताली बजने की आवाज भी आनी चाहिए। इसे शुरुआत में धीमी गति में करें। फिर इसकी स्पीड बढ़ाएं। यह अच्छी एरोबिक एक्सरसाइज है।

बॉक्सिंग: बॉक्सिंग में शरीर की ताकत के साथ ही दिमाग की परीक्षा भी होती है। इसे करने के लिए एक स्थान पर खड़ा होकर हवा में मुक्के मारें। ध्यान रहे कि इस समय शरीर का संतुलन बना रहे। शुरुआत में हाथ को धीरे-धीरे हवा में मारें, उसके बाद स्पीड बढ़ाएं। इसे प्रशिक्षक की देखरेख में करना ही ठीक रहेगा।

वेट ट्रेनिंग एरोबिक एक्सरसाइज Weight Training Aerobic Exercise For Weight Loss In Hindi –यह ऐसी एरोबिक एक्सरसाइज है जिसे उपकरणों की सहायता से किया जाता है। आमतौर पर वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज जिम सेंटर के अंदर ही किया जाता है। यह एक्सरसाइज शरीर को बेहतर काया प्रदान करने और चर्बी घटाने में बहुत सहायक होती है।

आमतौर पर एरोबिक एक्सरसाइज एक ऐसी एक्सरसाइज है जिसे किसी भी समय किया जा सकता है और एरोबिक एक्सरसाइज करना बेहद आसान होता है। इस एक्सरसाइज को किसी भी उम्र के लोग यहां तक कि बच्चे भी कर सकते हैं। एरोबिक एक्सरसाइज सभी उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होता है। आइये जानते हैं एरोबिक एक्सरसाइज करने के फायदे के बारे में जानते हैं।

What is Aerobic Exercise? Aerobic vs Anaerobic Workouts | Health.com

एरोबिक एक्सरसाइज करने के फायदे – Benefit of Aerobic Exercise in Hindi

  • एरोबिक स्ट्रेस को कम करने में बहुत सहायक होती है। एक स्टडी में पाया गया है कि यदि हफ्ते में तीन से पांच दिन आधे घंटे तक एरोबिक एक्सरसाइज किया जाए तो डिप्रेशन की समस्या दूर हो सकती है और मूड भी अच्छा हो सकता है।
  • हाय ब्लड प्रेशर की समस्या को दूर करने के लिए एरोबिक बहुत फायदेमंद वर्कआउट है। इस एक्सरसाइज को करने से ब्लड वेसल्स (blood vessels) अधिक कठोर बनती हैं। इसलिए हृदय रोगों के खतरे से बचने के लिए एरोबिक एक्सरसाइज करना फायदेमंद है।
  • हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार तीस साल की उम्र के बाद व्यक्ति के मस्तिष्क की कोशिकाएं धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगती हैं। रिसर्च के अनुसार इस स्थिति से बचने के लिए और कोशिकाओं को टूटने से बचाने के लिए एरोबिक करना फायदेमंद हो सकता है। यह मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के साथ ही यादाश्त को बढ़ाने और भूलने की बीमारी को दूर करने में मदद करती है।
  • यह एक्सरसाइज अस्थमा के पेशेंट के लिए काफी लाभकारी होता है। दरअसल एरोबिक वर्कआउट के दौरान फेफड़ों तक हवा पहुंचती है। जिससे फेफड़ों में मौजूद विषाक्त बाहर निकलते हैं। हालांकि अस्थमा के पेशेंट को इस वर्कआउट से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए की उन्हें यह वर्कआउट करना है या नहीं।
  • इस वर्कआउट को नियमित रूप से करने पर इम्यून सिस्टम स्ट्रांग होता है। यह वर्कआउट महिलाओं में कोर्टिसोल हॉर्मोन को बढ़ाने में मदद करता है। इससे शरीर में ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल रहता है। अगर आपको सूजन से समस्या होती है, तो इस परेशानी को भी दूर करने में सहायक होता है। महिलाओं में ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल रहता है।
  • एक स्टडी में पाया गया है कि नियमित रूप से लगभग 30 मिनट तक एरोबिक एक्सरसाइज करने से खून में इम्यूनोग्लोबुलिन (immunoglobulins) नामक एंटीबॉडी बढ़ता है जिससे व्यक्ति का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। एरोबिक व्यायाम महिलाओं में कॉर्टिसोल (cortisol) के स्तर को कम करने में मदद करता है जिससे उनका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।
  • एरोबिक एक्सरसाइज करने से नींद की परेशानी दूर हो सकती है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के रिसर्च के अनुसार जिन लोगों ने 4 महीने तक एरोबिक एक्सरसाइज की उनकी नींद से जुड़ी परेशानी दूर हुई।
  • लगभग हफ्ते में पांच दिन एरोबिक एक्सरसाइज नियमित करने से 400 से 600 कैलोरी घटायी जा सकती है। इससे शरीर पर अतिरिक्त फैट नहीं जमता है और व्यक्ति का वजन नियंत्रित रहता है। आपको बता दें कि वजन घटाने के लिए एरोबिक एक्सरसाइज बहुत लोकप्रिय है।
  • नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार जिन लोगों को स्मोकिंग की आदत है और वह अपनी इस आदत या लत को छोड़ने में असमर्थ हैं, तो एरोबिक एक्सरसाइज उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है।
  • एरोबिक एक्सरसाइज के बारे में पहले एक्सपर्ट से समझ लें और फिर करना शुरू करें। ऐसा करने से एक्सरसाइज के दौरान अनजाने में करने वाली गलतियों से बचा जा सकता है। अगर आप एरोबिक एक्सरसाइज से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।
  • तीस साल की उम्र के बाद व्यक्ति के मस्तिष्क की कोशिकाएं कमजोर पड़ने लगती हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस स्थिति से बचने के लिए और कोशिकाओं को टूटने से बचाने के लिए एरोबिक व्यायाम करना फायदेमंद हो सकता है। यह मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के साथ ही यादाश्त को बढ़ाने और भूलने की बीमारी को दूर करने में मदद करती है
What are the top 9 types of aerobic exercises? | Benefit and Side Effects of Aerobic Exercise in Hindi
Benefit and Side Effects of Aerobic Exercise in Hindi

एरोबिक एक्सरसाइज (Aerobic exercise) के दौरान किन बातों का रखें ध्यान

  • अगर आपके पैर में चोट लगी है या दर्द रहता है, तो ऐसी स्थिति में इस वर्कआउट को करने से डॉक्टर से सलाह लें।
  • स्विमिंग के दौरान ध्यान रखें कि मसल्स में खिंचाव न आये।
  • अगर रस्सी कूदते समय पैर, घुटनों या हाथ में चोट लग जाए या दर्द महसूस होने पर रस्सी न कूदें।
  • अगर आपकी सर्जरी हुई है, तो ऐसे में वर्कआउट न करें।
  • गर्भवती महिलाओं को किसी भी तरह के वर्कआउट से अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

एरोबिक एक्सरसाइज के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? Side Effects of Aerobics on Health in Hindi

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि किसी चीज के फायदे और नुकसान दोनों होते हैं। इसी तरह एरोबिक एक्सरसाइज करने से स्वास्थ्य को कई बड़े फायदे तो होते ही हैं लेकिन इसके साथ ही इसके कुछ नुकसान भी होते हैं।

एरोबिक एक्सरसाइज या किसी भी व्यायाम को ठीक तरह से नहीं करने पर निम्नलिखित परेशानी हो सकती है। जैसे:

  • मांसपेशियों में थकान या दर्द महसूस होना
  • लोअर बैक में दर्द होना
  • अपर बैक में भी दर्द की परेशानी हो सकती है।
  • इन साइड इफेक्ट्स के अलावा अन्य तकलीफ मासूस होने पर लापरवाही न बरतें और डॉक्टर सलाह लें।

अगर आप एरोबिक एक्सरसाइज (Aerobic Exercise) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए sangeetaspen.com वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो sangeetaspen.com blog या sangeetaspen youtub chanle में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और इस पोस्ट को अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

Q : ऐरोबिक इनमें से क्या है?

Ans : एरोबिक व्यायाम को कभी-कभी कार्डियो के रूप में भी जाना जाता है, जिससे हृदय में ऑक्सीजन युक्त रक्त को पंप करने की जरूरत होती है ताकि काम करने वाली मांसपेशियों को ऑक्सीजन पहुंचाया जा सके। ऐसे ही कई इसके फायदे होते हैं जो आपको स्वस्थ रखने में काफी मदद करते हैं और आपको तरोताजा करने का काम करते हैं

Q : एरोबिक्स की शुरुआत कब हुई?

Ans :एरोबिक नृत्य व्यायाम जो अमेरिका में 1970 के दशक में लोकप्रियता हुई

Q : एरोबिक एक्सरसाइज ( मतलब) क्या है

Ans : शरीर के अंगों को स्वस्थ रखने के लिए किया गया शारीरिक

Leave a Reply