What is lactose intolerance In Hindi | lactose intolerance Cause, Symptoms, Diagnosis, Treatment In Hindi | Definition & Facts for Lactose Intolerance

हेल्थ
What is lactose intolerance In Hindi | lactose intolerance Cause, Symptoms, Diagnosis, Treatment In Hindi | Definition & Facts for Lactose Intolerance | लैक्टोज इंटॉलरेंस क्या है ? क्यों होती है दूध से एलर्जी ?
Advertisement
lactose intolerance

What is lactose intolerance In Hindi | lactose intolerance Cause, Symptoms, Diagnosis, Treatment In Hindi | Definition & Facts for Lactose Intolerance | लैक्टोज इंटॉलरेंस क्या है ? क्यों होती है दूध से एलर्जी ?

Lactose intolerance : लैक्टोज इंटॉलरेंस (Lactose intolerance)एक सामान्य पाचन समस्या है जिसमें शरीर लैक्टोज को पचा नहीं पाता है। लैक्टोज एक प्रकार का शुगर या शर्करा होती है जो मुख्य रूप से दूध या दूध से निर्मित खाद्य पदार्थों (जैसे पनीर, दही या आइसक्रीम) में पाई जाती है।

Lactose intolerance

लैक्टोज इंटॉलरेंस (Lactose intolerance)के पाचन संबंधी लक्षण लैक्टोज मालएब्सॉर्प्शन/अनवशोषित के कारण होते हैं। लैक्टोज मालएब्सॉर्प्शन तब होता है, जब छोटी आंत लैक्टेज एंजाइम की कमी या अनुपस्थिति के कारण दूध और दुग्ध उत्पादों में मौजूद लैक्टोज को पचा नहीं पाती हैं।

What is lactose intolerance In Hindi | lactose intolerance Cause, Symptoms, Diagnosis, Treatment In Hindi | Definition & Facts for Lactose Intolerance | लैक्टोज इंटॉलरेंस क्या है ? क्यों होती है दूध से एलर्जी ?
What is lactose intolerance In Hindi | lactose intolerance Cause, Symptoms,

जन्मजात लैक्टेज की कमी एक विकार है, जिसे जन्मजात अलैक्टसिया भी कहा जाता है, जिसमें शिशु मां के दूध या फार्मूला दूध में मौजूद लैक्टोज को तोड़ने में असमर्थ होता हैं। लैक्टोज इंटॉलरेंस के इस प्रकार के परिणामस्वरूप गंभीर डायरिया/दस्त/अतिसार हो जाता हैं। वयस्कता में लैक्टोज इंटॉलरेंस बाल्यावस्था के बाद लैक्टेज के उत्पादन में अभाव (लैक्टेज नॉनपर्सिस्टेंस) के कारण होता है।

लैक्टोज इंटॉलरेंस (Lactose intolerance)से पीड़ित अधिकांश लोग बिना लक्षणों के लैक्टोज की कुछ मात्रा को सहन कर सकते हैं। भिन्न-भिन्न लोग लक्षणों से पीड़ित होने से पहले अलग-अलग मात्रा में लैक्टोज को सहन कर सकते हैं। दुनिया की साठ प्रतिशत आबादी पशुओं के दूध में लैक्टोज को संसाधित करने में असमर्थ है।

लैक्टोज इंटॉलरेंस दूध की एलर्जी से अलग है, क्योंकि दूध की एलर्जी एक प्रतिरक्षा प्रणाली विकार है।लैक्टोज इंटॉलरेंस (Lactose intolerance)से पीड़ित लोगों को डेयरी उत्पादों के सेवन विशेषकर दूध पीने के बाद पेट में सूजन, दस्त और पेट में ऐंठन जैसी दिक्कतें हो जाती हैं। चूंकि ऐसे लोग दूध और दही का सेवन ज्यादा नहीं कर पाते हैं, ऐसे में इनमें कैल्शियम की कमी होने का खतरा बना रहता है।

लैक्टोज न पचने का कारण क्या होता है

लैक्टोज तब नही पचता है जब छोटी आंत पर्याप्त मात्रा में उस एंजाइम का उत्पादन नहीं करती है जिसे लैक्टेज कहते हैं। आपके शरीर में लैक्टोज (दुग्ध उत्पादों में पाए जाने वाली शर्करा) को तोड़ने या पचाने के लिए लैक्टेज की आवश्यकता होती है।

लैक्टोज न पचने की समस्या आम तौर पर व्यक्तियों में आयु बढ़ने के साथ उत्पन्न होती है। लोग अपनी किशोरावस्था या वयस्कता (उम्र 30 से 40) के दौरान लैक्टोज न पचने की समस्या का सामना करने लगते हैं। आम तौर पर, लैक्टोज न पचने की समस्या अनुवांशिक होती है

और परिवार के जीन से संबंधित होती है। लैक्टोज न पचने की समस्या संक्रमण, किमोथेरेपी, पेनिसिलिन रिएक्शन, सर्जरी, गर्भावस्था या लंबे समय तक दुग्ध उत्पाद न खाने के कारण भी हो सकती है। इसके अतिरिक्त, विशिष्ट जाति के दूसरों की तुलना में लैक्टोज पाचन न होने की समस्या की संभावना अधिक होती है।

दुर्लभ अवसरों में, नवजात शिशु लैक्टोज–पाचन न होने की समस्या का सामना करते हैं। आम तौर पर नवजात शिशुओं में यह समस्या आयु बढ़ने के साथ समाप्त हो जाती है।

FAQ :

Q : लैक्टोज टॉलरेंस क्या है?

Ans :लैक्टोज इंटॉलरेंस (Lactose intolerance) एक सामान्य पाचन समस्या है जिसमें शरीर लैक्टोज को पचा नहीं पाता है। लैक्टोज एक प्रकार का शुगर या शर्करा होती है जो मुख्य रूप से दूध या दूध से निर्मित खाद्य पदार्थों में पाई जाती है।

Q : लेक्टोज क्या है in Hindi?

Ans :लैक्टोज एक प्रकार की चीनी है जो स्तनधारियों के दूध में स्वाभाविक रूप से पाई जाती है और दूध में कैलोरी का मुख्य स्रोत भी होती है. लैक्टोज दूध व दूध से बने उत्पादों में पाया जाता है. शरीर लैक्टोज नाम के एंजाइम का इस्तेमाल करता है जो शुगर को तोड़ने में मदद करता है.

Q : लैक्टोज असहिष्णुता का निदान कैसे करें?

Ans :लैक्टोज के उच्च स्तर वाले तरल पीने के दो घंटे बाद, आपके रक्त प्रवाह में ग्लूकोज की मात्रा को मापने के लिए आपको रक्त परीक्षण से गुजरना होगा। यदि आपका ग्लूकोज स्तर नहीं बढ़ता है, तो इसका मतलब है कि आपका शरीर लैक्टोज से भरे पेय को ठीक से पचा और अवशोषित नहीं कर रहा है।

Q : लैक्टोज असहिष्णुता के लक्षण कितने समय तक रहते हैं?

Ans : लैक्टोज असहिष्णुता के लक्षण आमतौर पर डेयरी का सेवन करने के 30 मिनट से 2 घंटे के बीच शुरू होते हैं। लक्षण तब तक बने रहते हैं जब तक लैक्टोज आपके पाचन तंत्र से नहीं गुजरता, लगभग 48 घंटे बाद तक ।

Q : दूध में लैक्टोज की मात्रा कितनी होती है?

Ans : 225 ग्राम गाय के दूध लगभग 12 ग्राम लैक्टोज होता है

Q : दही में कितना लैक्टोज होता है?

Ans : लैक्टोज दूध और डेयरी उत्पादों की मुख्य चीनी है: नियमित दूध (भेड़, गाय या बकरी) में लगभग 12 ग्राम लैक्टोज प्रति 1 कप 250 मिलीलीटर होता है। दही में प्रति 1 भाग दही में 5 ग्राम लैक्टोज होता है (125 ग्राम या 4,4 ऑउंस) पनीर में, केवल लैक्टोज के निशान होते हैं।

Leave a Reply