WhatsApp Privacy Policy 2021

न्यूज़
WhatsApp Privacy Policy 2021
WhatsApp Privacy Policy 2021

मैं किसी अप्लीकेशन को इस्तेमाल करने या नहीं करने के लिए आपको नहीं कह रही हूँ में एक पारदर्शी प्राइवेसी पालिसी की समर्थ हूँ। मेरा मानना है की सभी लोगो को इसकी जानकारी होनी चाहिए जिससे हम अपनी निजी जानकारियों को सुरक्षित कर सके।

Advertisement

व्हाट्सप्प के द्वारा अपनी प्राइवेसी पालिसी में बदलाव करने की घोषणा के बाद व्हाट्सप्प यूजर को अपने डाटा और प्राइवेसी पालिसी की चिंता सताने लगी है। मामला ही कुछ ऐसा है।

WhatsAppके नयी प्राइवेसी पालिसी का जो नोटिफिकेशन व्हाट्सअप यूजर को आ रहा उस में दो ही ऑप्शन है या तो आप व्हाट्सअप को अपना डाटा इस्तेमाल करने के लिए परमिशन दे और दूसरा आप व्हाट्सप्प इस्तेमाल नहीं कर सकते है मतलब सीधा है भाई की आपका अकाउंट बंद हो जायेगा

WhatsApp Privacy Policy 2021

यह एक तरह से ब्लैकमेलिंग सा नहीं लगता। आपका डाटा हमारे पास है जल्दी से एक लाख रूपये देदो नहीं तो हम आपके डाटा को टुकड़े – टुकड़े कर देंगे। सॉरी टुकड़े – टुकड़े नहीं बेच देंगे। क्योकि आपका डाटा अब सोने से भी महंगा है ।

Telegram और Signal को फायदा
Telegram और Signal को फायदा

WhatsAap की एक गलती से Telegram और Signal को फायदा

व्हाट्सप्प से यहाँ एक गलती हो गयी वो भूल गया की बहुत सारे अप्लीकशन है जो ऐसे ही किसी मोके की तलाश में है। और व्हाट्सप्प के कोफाउंडर भी व्हाट्सप्प छोड़ कर सिग्नल (Signal)  दे रहे है। साथ-2 ही टेलीग्राम (Telegram) । hike जैसे अप्लीकेशन से व्हाट्सप्प को कड़ा कॉम्पीटीशं मिलने लगा Read this : Hike Aap क्या है और इसका उपयोग कैसे करते हैं

Signal पर लोगों का बढ़ता विश्वास

एक वीक पहले मैंने सिग्नल को डाउनलोड किया था तब मेरी कांटेक्ट लिस्ट से एक या दो लोग ही थे जो उसको उसे इस्तेमाल कर रहे थे और मैंने भी उसको कुछ दिनों तक नहीं देखा

WhatsApp Privacy Policy 2021

आज जब मैंने सिग्नल (Signal) ओपन किया तो मेरी कांटेक्ट लिस्ट के 90% लोग उस अप्लीकेशन को डाउनलोड कर चुके है इसका सीधा मतलब लोगो को व्हाट्सअप की नई पालिसी पसंद नहीं आ रही है।

विज्ञापनों द्वारा WhatsAap के दावे

अब व्हाट्सप्प (WhatsAap) को भी ये बात समझ में आ चुकी है इसलिए उसको अपना प्लान चेंज करना पड़ा रहा है अब वह लगातार विज्ञापनों द्वारा दावे कर रहा है की वह न आपने चैट्स को पढता है न ही आपके कांटेक्ट लिस्ट को एक्स्सेस करता है आपने अपने व्हाट्सप्प के स्टेटस पर ये देखा भी होगा Read this : WhatsApp Privacy Update : वाट्सऐप ने किया अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बड़ा फैसला, 8 फरवरी को नहीं डिलीट करना होगा अपना अकाउंट

अगर सच में व्हाट्सप्प (WhatsAap) अपने यूजर का डाटा अपने सहयोगी कंपनियों के साथ नहीं शेयर करने जा रहा है तो फिर उसको नई प्राइवेसी पालिसी को लाने की जरूरत क्यों पड़ी यही बात किसी के समझ नहीं आ रही है कुछ तो लोचा है।

हालांकि आपका डेटा पहले से ही इस्तेमाल किया जा रहा है । अंतर इतना है की अब वह आपको बता के करेगा। ताजा खबरों की माने तो व्हाट्सप्प (WhatsAap) ने तीन महीने का समय और दिया है

WhatsApp Privacy Policy 2021

पहले वह 8 फ़रवरी से अपनी नई प्राइवेसी पालिसी लागू करने जा रहा था अब वह नई प्राइवेसी पालिसी को 15 मई से लागू करेगा यह तीन माह का समय उसने अपने यूजर पो नयी प्राइवेसी पालिसी को समझने के लिए दिया है ।

WhatsAap की प्राइवेसी पालिसी से परेशान

सबसे बड़ी डरने वाली बात यह की हमारे देश में डाटा सुरक्षा कानून है ही नहीं अभी हम व्हाट्सप्प (WhatsAap) की प्राइवेसी पालिसी से परेशान है पर बहुत सारे लोग यह भूल रहे है उनका डाटा पहले से ही फेसबुक के पास है।

वो डाटा आपने अपनी मर्जी से फेसबुक (Facebook) और फेसबुक मैसेंजर (Facebook messenger) पर शेयर किया है। सायद कुछ लोग अपनी फोटो शेयर करने के बाद उसको डिलीट भी कर चुके होंगे पर आपको जान कर हैरानी होगी

की यह डाटा सर्वर के बिन में शेव रहता है इसको जब चाहे रिकवर किया जा सकता है। जिसमे हमारी पर्सनल इनफार्मेशन से लेकर फाइनेंसियल इनफार्मेशन शामिल है।

यह तो केवल फेसबुक की बात हुई, कंप्यूटर की दुनिया ऐसे बहुत सी अप्लीकेशन और वेबसाइट आपको मिल जाएँगी जहाँ पर आप जाने अनजाने अपना डाटा शेयर कर देते है

टिकटोक ने ट्रम को किया  बैन

हाल ही में जो डोनाल्ड ट्रम्प के साथ जो हुआ उसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी. अमेरिका के राष्ट्रपति को Facebook, Twitter, जैसे प्लेट फॉर्म बन कर सकते है तो आम आदमी के बारे में में क्या कहु आप ही समझ सकते है

हद तो तब हो गयी जब टिकटोक जिसको ट्रम्प राष्ट्रपति रहते हुवे बैन करने की कोशिस कर रहे थे उस टिकटोक ने ट्रम को बैन कर दिया। हर किसी का दिन आता है।

भारत सरकार के पास ऑनलाइन डाटा सिक्योरिटी का कोई लॉ है ही नहीं जिससे यह कम्पनिया बेखौप होकर यूजर का डाटा अपनी सहयोगियों के साथ यूजर की अनुमति बिना शेयर या सेल कर रही है। सरकार को प्राइवेसी पालिसी पर फ़ौरन एक सख्त कानून लाने की जरूरत है।

Leave a Reply