Who is Piyush Jain | UP Businessman Piyush Jain | Dhankuber of Kannauj

हेल्थ
who is piyush jain | up businessman piyush jain | dhankuber of kannauj
who is piyush jain | up businessman piyush jain | dhankuber of kannauj

कन्नौज के पीयूष जैन (Piyush Jain) की कहानी | आखिर 5 करोड़ की कंपनी वाला ढाई सौ करोड़ कैश का मालिक कैसे बना ?

Who is Piyush Jain | UP Businessman Piyush Jain | Dhankuber of Kannauj

Advertisement
    नाम      पीयूष जैन
    जन्म स्थान      कन्नौज के छपट्टी मोहल्ले का होली चौक
    पीयूष जैन का वर्तमान पता      कानपुर के आनंदपुरी कॉलोनी
    पिता का नाम      महेश चंद्र
    पीयूष जैन के भाई का नाम     अमरीश जैन
    पीयूष जैन के बेटे का नाम     प्रत्यूष जैन, प्रियांश जैन 
    पीयूष जैन का व्यवसाय    इत्र (परफ्यूम) का व्यवसाय
  पीयूष जैन अरेस्ट होने का कारण   पीयूष जैन को क्यों अरेस्ट किया गया है?
    इनके घर पर इनकम टैक्स छापा लगने पर इनके पास से लगभग        150 करोड़ रुपये कैश बरामद हुए.
   पीयूष जैन का प्रोडक्ट कौनसा है?   समाजवादी परफ्यूम
  समाजवादी इत्र कब लॉन्च हुआ था   एक माह पहले लॉन्च हुआ था समाजवादी इत्र
who is piyush jain | up businessman piyush jain | dhankuber of kannauj
who is piyush jain | up businessman piyush jain | dhankuber of kannauj

पीयूष जैन कौन है | Who is Piyush Jain in hindi|piyush jain samajwadi party|

Piyush Jain : पीयूष जैन का मूल निवास स्थान कन्नौज के छपट्टी मोहल्ले का होली चौक है। और वर्तमान में कानपुर के आनंदपुरी में पीयूष जैन का आवास है। आनंदपुरी कॉलोनी में पीयूष का परिवार 7 साल पहले रहने आया था.

पीयूष जैन कानपुर के नामी परफ्यूम व्यवसायी हैं और समाजवादी पार्टी व अखिलेश यादव के काफी करीबी माने जाते हैं। पीयूष जैन ही वह शख्स हैं, जिन्होंने समाजवादी परफ्यूम को लॉन्च किया था। इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज में घर के अलावा कन्नौज में परफ्यूम फैक्ट्री, कोल्ड स्टोर, पेट्रोल पंप हैं। मुंबई में पीयूष का घर, हेड ऑफिस और शोरूम भी है। जैन की कंपनियां मुंबई में भी रजिस्टर हैं।पीयूष जैन के पास लगभग 40 कंपनियां हैं, जिनमें से 2 मिडिल ईस्ट में हैं। जैन के मुंबई के शोरूम से परफ्यूम पूरे देश और विदेश में बिकता है।

Piyush Jain : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) कन्नौज के छिपट्टी मोहल्ले से निकल मुंबई और मध्य पूर्व तक में इत्र का कारोबार करने वाले पीयूष जैन पीयूष जैन (Piyush Jain) के घर और दफ्तरों में पड़े आयकर विभाग के छापों से लगातार धनवर्षा हो रही है। पीयूष जैन का नाम आज देश भर में चर्चा में है।

तिजोरियों और बेसमेंट से निकल रहे कैश को गिनने में मशीनें जुटी हैं। इत्र के कारोबार की दुनिया में पीयूष जैन (Piyush jain) का भले ही बड़ा नाम था, लेकिन उन्हें चर्चा इनकम टैक्स की रेड के बाद ही मिली है। जैन के यहाँ से इनकम टैक्स को अब तक करीब 257 करोड़ रुपये का कैश मिला है। CGST और इनकम टैक्स (Income Tax Department) विभाग की जाँच अभी जारी है।

फिलहाल हर कोई यह जानना चाहता है कि आखिर इत्र से ज्यादा नोटों की खुशबू लेने वाला ये पीयूष (Piyush jain)कौन हैं.आइए जानते हैं, कन्नौज के धनकुबेर पीयूष जैन (Piyush jain)ने कैसे कमाई अथाह पूंजी और कैसा रहा .कन्नौज धनकुबेर का सफर…

पीयूष जैन का कारोबार यूं तो कानपुर बेस्ड है, लेकिन उनकी पैदाइश कन्नौज की है। कन्नौज की जैन स्ट्रीट में उनका पुश्तैनी घर है, जो काफी छोटा हुआ करता था। अब यह घर एक आलीशान कोठी में तब्दील हो गया है। जैन स्ट्रीट के उनके पड़ोसी बताते हैं कि उन्हें भी इस बात का इल्म नहीं था कि जैन परिवार इतना रईस है। पीयूष जैन के पिता महेंश चंद्र जैन पेशे से केमिस्ट हैं। दो साल पहले महेश की पत्नी का निधन हो गया था। महेश से ही उनके बेटों पीयूष और अंबरीष ने इत्र और खाने-पीने की चीजों में मिलाए जाने वाले एसेंस (कंपाउंड) बनाने का तरीका सीखा था।

फैमिली को करीब से देखने वाले लोग बताते हैं कि बीते 15 सालों में इस परिवार की हालत बदल गई है। कभी एक छोटे से मकान में रहने वाले पीयूष जैन के परिवार के ज्यादातर लोग कानपुर में ही रहते हैं। कन्नौज में सिर्फ पिता महेश चंद्र रहते हैं। लेकिन परिवार की पहचान कन्नौज से ही है।

इसीलिए उन्हें कन्नौज का धनकुबेर कहा जाता है। पीयूष जैन 40 से ज्‍यादा कंपनियों के मालिक हैं। इनमें से दो कंपनियां मिडिल ईस्ट में हैं। कन्‍नौज में पीयूष की परफ्यूम फैक्‍ट्री, कोल्‍ड स्‍टोरेज और पेट्रोल पंप भी हैं। मुंबई में पीयूष का हेड ऑफिस है। इसके साथ ही वहां उनका एक बंगला भी है। पीयूष जैन इत्र का सारा बिजनेस मुंबई से करते हैं, यहीं से इनका इत्र विदेशों में भी भेजा जाता है।

हिरासत में पीयूष जैन

पीयूष जैन पर आरोप है कि कई फर्ज़ी फर्मों के नाम से बिल बनाकर कंपनी ने करोड़ों रुपयों की जीएसटी चोरी की। पीयूष के घर से 200 से अधिक फर्जी इनवॉइस और ई-वे बिल मिले हैं। घर में बड़ी तादाद में बक्से मंगवाये गए हैं। छापेमारी के दौरान जीएसटी चोरी का भारी खेल सामने आया है।

फिलहाल इत्र कारोबारी पीयूष जैन को महानिदेशालय जीएसटी इंटेलीजेंस (DGGI) अहमदाबाद की टीम ने हिरासत में ले लिया है। जाँच दल आरोपित को लेकर कन्नौज गई है, जहाँ उसके फिंगर प्रिंट की सहायता से बंद दरवाजों के लॉकर को खोला गया। इसके अलावा पीयूष जैन के 2 बेटों प्रत्युष और प्रियांश जैन को भी हिरासत में लिया गया है। गौरतलब है कि कर चोरी के मामले में बुधवार को इनकम टैक्स की टीम ने शिकर पान मसाला के घर पर छापा मारा था। उसके बाद से यह छापेमारी लगातार चल रही है।

पीयूष जैन समाजवादी पार्टी (Samajwadi party) के MLC पुष्पराज जैन पम्मी (Pushpraj jain pummi) के रिश्तेदार बताए जा रहे हैं। आरोपित के यहाँ जाँच एजेंसी को कन्नौज वाले घर में एक तहखाना भी मिला है,

कानपुर में मिले थे 181 करोड़

इत्र व कंपाउंड कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर स्थित आवास से मिले 181 करोड़ के बाद अब कन्नौज के घर की दीवारें, फर्श, सीलिंग, और तहखाने करोडों रुपये और सोना-चांदी उगल रही हैं। रविवार को तीसरे दिन कन्नौज में महानिदेशालय जीएसटी इंटेलिजेंस (डीजीजीआई) और आयकर विभाग की कार्रवाई में करीब 110 करोड़ रुपये नकद और 275 किलो सोना-चांदी मिला है।

इनमें से चाँदी की बाजार कीमत करीब पौने 2 करोड़ रुपए और सोने की कीमत करीब 12 करोड़ रुपए आँकी गई है। इस तरह से कुल मिलाकर अब तक एजेंसियों ने पीयूष जैन के पास से कुल मिलाकर 284 करोड़ रुपए की राशि मिल चुकी है।

इसके अलावा जैन के यहाँ तहखाने से नोटों से भरी 9 बोरियाँ मिली हैं। इस कैश को अभी तक नहीं गिना जा सका है। इसकी गिनती करने के लिए बैंकों के अधिकारियों और नोट गिनने की 7 मशीनों को मंगाया गया है। अनुमान लगाया गया है कि यह कैश भी करीब 50 करोड़ रुपए हो सकता है। इसके अलावा उसके पास से सीक्रेट लॉकर और आलमारियाँ मिली हैं, जिन्हें खोलने में अधिकारियों की भी हालत खराब हो गई है। इसलिए अब लखनऊ से आर्किटेक्ट की टीम को बुलाया गया है।

रहस्यमयी तरीके से बनाए हैं घर

पीयूष जैन का घर बहुत ही रहस्यमयी तरीके से बनाया गया है। एक बड़े अहाते में कुल चार बड़े मकान बनाए गए हैं। लेकिन, इनमें आने-जाने के लिए कुल आठ दरवाजे हैं और सभी मकान एक-दूसरे से पूरी तरह से अलग हैं। यानि के एक मकान से दूसरे मकान में जाने के लिए बाहर आना पड़ेगा। यहाँ से भी अब तक चार बोरे बरामद किए जा चुके हैं।इसके आलावा गुजरात, मुंबई और कानपुर के कई ठिकानों पर रेड शुरू की गई है।

पीयूष जैन के पास मिला पैसा क्या राजनेताओं का है?

दस्तावेजों के मुताबिक, इत्र व्यवसायी पीयूष जैन की टर्नओवर सिर्फ 5 करोड़ रुपए है. कंपनी की साल 2017-18 में एक करोड़ 70 लाख की टर्नओवर थी. पीयूष जैन की कंपनी में 3 साझेदार हैं- पीयूष जैन, महेश जैन और अंबरीश जैन. इन तीनों की कंपनी ओडोकैम इंडस्ट्रीज साल 1992 में बनी थी.

अलीगढ़ में यह कंपनी आयकर रिटर्न दाखिल करती है. दस्तावेजों के मुताबिक इस कंपनी के पास मात्र दो बड़े क्लाइंट है. इनमें से एक मुंबई की और दूसरी गुटखा कंपनी है. अभी तक आयकर विभाग ने इस मामले में जांच शुरू ही नहीं की. ऐसे में सवाल ये खड़ा हो रहा है कि क्या कोई है जो जांच में रोड़े अटका रहा है?

एक माह पहले लॉन्च हुआ था समाजवादी इत्र

जानकारी के अनसार गुरुवार को कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के प्रतिष्ठान एवं कानपुर स्थित घर पर आयकर एवं जीएसटी की टीम ने छापा मारा था। इस पर एक बार फिर कारोबारी को सपा से जोड़े जाने की चर्चाएं तेज हुई तो समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्विटर पर सफाई देनी पड़ी है। बताया जाता है कि पीयूष जैन ने एक माह पहले समाजवादी इत्र की लॉन्चिंग लखनऊ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने की थी।

समाजवाद की खुशबू का किया गया था दावा

लॉन्चिंग के दौरान अखिलेश ने कहा था कि 2022 के चुनावों को देखते हुए यह इत्र 22 फूलों से बनाया गया है। इसकी खुशबू देश ही नहीं, विदेश तक फैलेगी। सपा एमएलसी पम्पी जैन ने कहा था कि यह इत्र ऐसा है, जिसके इस्तेमाल से समाजवाद की खुशबू आएगी और 2022 में नफरत खत्म कर सभी में प्रेम बढ़ाएगी।

Leave a Reply