why rock salt is eaten during fasting | know the Top Amazing benefit of Rock Salt in Hindi | Sendha Namk Ke Fayde or Nuksan

हेल्थ
Top Amazing benefit of Rock Salt in Hindi
Top Amazing benefit of Rock Salt in Hindi

Table of Contents

Rock Salt (sendha namak) : जानिए व्रत में क्यों खाएं जाते हैं सेंधा नमक why rock salt is eaten during fasting know the important thing related  | know the Top Amazing benefit of Rock Salt in Hindi | Sendha Namk Ke Fayde or Nuksan

Rock Salt : हिंदू धर्म में उपवास यानी व्रत के समय कुछ विशेष चीजों का सेवन किया जाता है जैसे- फल, दूध, फलाहारी सब्जी,लस्सी, जूस,दही व साबूदाना की खिचड़ी आदि। उपवास के दौरान खाए जाने वाले नमकीन व्यंजनों में एक विशेष प्रकार के नमक का उपयोग किया जाता है,जिसे सेंधा नमक के नाम से जाना जाता हैं।

Advertisement

यह भी पढ़ें: नवरात्रि नाश्ता व उपवास व्यंजन रेसिपी

लेकिन क्या आप जानते है की ऐसा क्यों किया जाता है नहीं जानते ना तो आइये आज की इस पोस्ट के माध्यम से जानते है, की व्रत में क्यों खाया जाता हैं सेंधा नमक और इसके क्या फायदे एवं नुकशान है। (why rock salt is eaten during fasting know the important thing and benefits of sendha namak )

Rock Salt : व्रत के दौरान हम काफी देर तक खाली पेट रहते हैं।इस दौरान साधारण नमक की बजाय भोजन में सेंधा नमक का इस्तेमाल किया जाता है।सामान्य नमक की तुलना में सेंधा नमक हल्का होता है और ये पाचनतंत्र को मजबूत बनाए रखता है। इसके अलावा यह आपके इम्यूनिटी सिस्टम को भी मजबूत रखता है।

आयुर्वेद में माना गया है सेंधा नमक को गुणकारी

धर्म ग्रंथों में सेंधा नमक को सात्विक बताया गया है। ऋषि वाग्भट्‌ट ने भी अपने ग्रंथों में कहा है कि व्रत या फलाहार में सेंधा नमक का उपयोग किया जा सकता है। वहीं, आयुर्वेद में इसे बहुत ही गुणकारी माना गया है। आयुर्वेद में इसे सेंधवा कहा जाता है और आयुर्वेद में माने गए 5 नमक में से एक ये है

जिसे हमें नियमित तौर पर अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। रोजाना खाने में इसका इस्तेमाल किया जाए तो इससे वात, पित्त और कफ संबंधी दोषों से बचा जा सकता है। इस नमक के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने लगती है और कैंसर का खतरा भी कम होने लगता है।

उपवास के समय शरीर को ज्यादा पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। ऐसे में शरीर की पोषकता की जरूरत को पूरा करने के लिए सेंधा नमक अहम रोल निभाता है। इस नमक का रंग गुलाबी होता है और इस नमक में कोई कैमिकल नहीं होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि सेंधा नमक को भोजन में इस्तेमाल करना साधारण नमक की तुलना में काफी अच्छा होता है।

इससे स्वास्थ्य को काफी लाभ पहुंचता है। व्रत के अलावा आम दिनों के दौरान भी आप सेंधा नमक का उपयोग कर सकते हैं। सेंधा नमक में शुगर, कार्ब्स, फाइबर, कैलोरी, प्रोटीन और फैट नहीं होता है। इसमें प्योर सोडियम होता है।इन्हीं सब कारणों से इसके लैम्प, स्पा आदि में इसका इस्तेमाल, कई आयुर्वेदिक नुस्खों में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

आयुर्वेद के अनुसार कौन से हैं पांच नमक ?

सेंधवा- सेंधा नमक
समुद्रा- समुद्र से मिलने वाला नमक
रोमका या संभारा- गुजरात के तालाब और राजस्थान के सांभर लेक से मिलने वाला नमक
सौवर्चल लवण या विदा – अमोनियम साल्ट
काला नमक- फ्लोराइड मौजूद नमक

सेंधा नमक’ को अलग अलग नामो से जाना जाता है जैसे -सेंधा नमक, सैन्धव नमक, लाहौरी नमक या हैलाईट (Halite)

आइये जानते है इसके अलग अलग नामो की क्या कहानी है

‘सेंधा नमक’ और ‘सैन्धव नमक’ का मतलब है ‘सिंध या सिन्धु के इलाक़े से आया हुआ’। पश्चिमोत्तरी पंजाब में नमक कोह (यानि नमक पर्वत) नाम की मशहूर पहाड़ी श्रृंखला है जहाँ से यह नमक मिलता है और इसी इलाक़े में प्रसिद्ध खेवड़ा नमक खान है। इस नमक को ‘लाहौरी नमक’ भी कहा जाता है क्योंकि यह अक्सर लाहौर से होता हुआ पूरे उत्तर भारत में बेचा जाता था

Sendha Namk Ke Fayde or Nuksan
Sendha Namk Ke Fayde or Nuksan

सेंधा नमक में नहीं होता है कोई कैमिकल

सेंधा नमक को शुद्धतम माना जाता है। सेंधा नमक को पहाड़ी नमक या रॉक साल्ट कहा जाता है। जिस वजह से इसे पूर्ण रूप से शुद्ध माना जाता है।नमक का शुद्ध रूप, सेंधा नमक को ही कहा जाता है. इसे ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि भोजन में इस्तेमाल करने से पहले इसे कैमिकल प्रोसेस से होकर गुजरना नहीं पड़ता है.

यानी सेंधा नमक में कोई कैमिकल नहीं होता. जबकि साधारण नमक या टेबल सॉल्ट (काला नमक) को शुद्ध करने के लिए एंटी-कॉकिंग एजेंट और कई अन्य कैमिकल प्रोसेस से होकर गुजरना ही पड़ता है. साधारण नमक को शुद्ध करने के दौरान कई प्रकार के एडिटिव्स मिलाए जाते हैं

जिस कारण इसका प्राकृतिक रूप पूरी तरह बदल जाता है और इसमे मौजूद कैल्शियम, पोटेशियम और मिनरल भी कम हो जाते हैं. इस स्थिति में सेंधा नमक साधारण नमक की तुलना में ज्यादा पोषक होता है.

क्यों सेंधा नमक उपवास के दौरान खाया जाता है

सेंधा नमक का इस्तेमाल करना व्रत (उपवास) में अच्छा माना जाता है। क्योंकि उपवास के समय शरीर को ज्यादा पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है ऐसे में शरीर की पोषकता की जरूरत को पूरा करने के लिए सेंधा नमक अहम रोल अदा करता है.

इतना ही नहीं सेंधा नमक के इस्तेमाल से ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित रहता है.साथ ही सेंधा नमक में आयोडीन की मात्रा कम होती है, और इसकी तासिर ठंडी होती है, जो आंखों को ठंडक पहुंचाने के साथ-साथ उन्हें खुजली और सूजन जैसे इंफेक्शन से भी बचाने में मदद कर सकता है।, इस कारण इसके सेवन करने से उच्च रक्तचाप की समस्या से भी निजात मिलती है.

सेंधा नमक के फायदे — Top Amazing benefit of Rock Salt in Hindi —Sendha Namk Ke Fayde

  • सेंधा नमक में सोडियम और पोटेशियम के गुण अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं, जो पाचन को दुरुस्त करने में मदद कर सकते हैं। सेंधा नमक को पाचन के लिए अच्छा माना जाता है।
  • सेंधा नमक कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है और आपका कोलस्ट्रोल बढ़ गया है तो आप साधारण नमक की जगह पर सेंधा नमक का सेवन कर सकते हैं।
  • ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के लिए भी आप सेंधा नमक का सेवन कर सकते हैं। ये ब्लड प्रेशर की बीमारी में लाभ पहुंचाता है।
  • सेंधा नमक आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता है। इससे आप हाइड्रेट रहते हैं।
  • ये आपकी एनर्जी बूस्ट करता है क्योंकि इस नमक में एनर्जी बूस्ट करने वाले मिनरल्स होते हैं।

सेंधा नमक के नुकसान — Side Effects of Rock Salt in Hindi — Rock Salt Ke Nuksaan

  • सेंधा नमक का सेवन करने से कुछ लोगों को पेट में दर्द, दस्त और उलटी की समस्याएं हो सकती हैं इसलिए इसके सेवन से पहले डॉक्टर की राय लें।
  • डायबिटीज और किडनी की समस्या से पीड़ित लोगों को इसके इस्तेमाल से बचना चाहिए।
  • सेंधा नमक की अधिक मात्रा सूजन का कारण बन सकती है।
  • पांच साल से छोटे बच्चो को सेंधा नामक का उपयोग नहींकरना चाहिए
  • प्रेग्नेंट महिलाओ एवं स्तनपान कराने वाली माताओ को भी सेंधा नमक का उपयोग नहीं करना चाहिए

खासकर सेंधा नमक का उपयोग नवरात्रि में ज्यादा किया जाता है क्या है इसकी वजह आइये जानते है

नवरात्रि साल में दो बार ऐसे समय पर आती है, जब मौसम में बदलाव होता है. इस दौरान बॉडी की इम्‍यूनिटी कमजोर होने के कारण लोग बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं. इस समय व्रत रखने से बॉडी मजबूत बनती है.और खाने में सेंधा नमक का उपयोग करने से शरीर को सभी जरुरी पोषक तत्व मिलते है

यह भी पढ़ें: नवरात्रि में देवी के नौ (9) स्वरूपों का नाम एवं देवी के पसंदीदा भोग, यहां जानिए कब लगाएं किस देवी को कौनसा पसंदीदा भोग

FAQ :

Q : गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर पीने से क्या होता है?

Ans :किसी भी प्रकार के दर्द से राहत पाने के लिए आप गर्म पानी के साथ सेंधा नमक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

Q : सेंधा नमक से क्या क्या फायदे हैं?

Q : सेंधा नमक से क्या क्या फायदे हैं?

Q : क्या सेंधा नमक खाने से बीपी बढ़ता है?

Ans :नहीं बल्कि सेंधा नमक हाई ब्लड प्रेशर के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है. अगर आप हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हैं, तो इस नमक का सेवन कर सकते हैं

Q : सेंधा नमक का सेवन कैसे करें?

Ans : सेंधा नमक और नींबू को पानी में मिलाकर पीने से अनेक फायदे होते है लेकिन एक ख़ास फायदा यही की जो पथरी के मरीज़ होते है वो सेंधा नमक और नींबू को पानी में मिलाकर पीये तो कुछ ही दिनों में पथरी गलने लगती है। वहीं साइनस के दर्द को कम करने में ही सेंधा नमक फायदेमंद है।

Q : सेंधा नमक में क्या पाया जाता है?

Ans : सेंधा नमक में लगभग 85 फीसदी सोडियम क्लोराइड होता है, जबकि बाकी 15 फीसदी में अन्य खनिज जैसे आयरन, कॉपर, जिंक, आयोडीन, मैंगनीज, मैग्नेशियम, सेलेनियम सहित कम से कम 84 प्रकार के तत्व होते हैं.

Q : सेंधा नमक की तासीर क्या है?

Ans : सेंधा नमक की तासीर ठंडी होती है

Q : काला नमक और सेंधा नमक में क्या अंतर है?

Ans : काला नमक भी साधारण नमक ही होता है. बस इसमें हरड़ के बीजों को डालकर उबाला जाता है. इसलिए इसका रंग काला होता है. सेंधा नमक समुद्र में नहीं पाया जाता है, बल्कि यह झीलों और पहाड़ों के ऊपर पत्थरों के रूप में पाया जाता है.

Q : सेंधा नमक और साधारण नमक में क्या अंतर है?

Ans : सेंधा नमक के क्रिस्टल एकदम शुष्क होते हैं परन्तु साधारण नमक के क्रिस्टल नम होते हैं। सेंधा नमक सीधे चट्टानों से प्राप्त किया जाता है जबकि साधारण नमक को वाष्पोत्सर्जन द्वारा प्राप्त किया जाता है। सेंधा नमक भोजन से नमी को अवशोषित कर लेता है पर साधारण नमक उतना शीघ्र नमी अवशोषित नहीं कर पाता।

Q : सबसे अच्छा नमक कौन सा है?

Ans : सेंधा नमक पूरी तरह कुदरती नमक होता है जो जमीन के नीचे चट्टान की तरह होता है। सेंधा नमक कुदरती चीज है और इसमें ज्यादा छेड़-छाड़ नहीं की जा सकती। यह सेहत के लिए ज्यादा बेहतर है

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि सेंधा नमक का उपयोग व्रत या उपवास में क्यों किया जाता है और इसके फायदे एवं नुकसान क्या क्या हैं। अगर आपके कोई सुझाव या राय हों तो आप कमेंट अवश्य करे हैं। साथ ही आपको ये ब्लॉग पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य व्लॉग पोस्ट पढ़ने के लिए जुड़े रहें https://sangeetaspen.com/ से।
(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Leave a Reply