World Ocean Day का इतिहास और महत्व तथा इस बार की थीम क्या है

न्यूज़
World Ocean Day: का इतिहास और महत्व तथा इस बार की थीम क्या है
World Ocean Day: का इतिहास और महत्व तथा इस बार की थीम क्या है
इमेज सौजन्य :द ट्रैंडी फ्री
Advertisement

World Ocean Day: का इतिहास और महत्व

हमारी पृथ्वी का दो तिहाई हिस्सा जलीय होने के बाद भी यहां शुद्ध जल की मात्रा बहुत कम है।पृथ्वी पर जीवन का आधार जल और वायु ही है। चारो और से समुद्र से घिरे होने के कारण ही पृथ्वी को वाटर प्लैनेट (Water Planet) भी कहा जाता है। लेकिन अब इस वाटर प्लैनेट ( पृथ्वी) का अस्तित्व खतरे में है। इसलिए महासागरों के महत्व, तथा महासागरों में बढ़ रहे प्रदूषण के खतरों एवं समंदर के संरक्षण के प्रति लोगों में जागरूकता फ़ैलाने के उद्देश्य से संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतेक वर्ष 8 जून को विश्व महासागर दिवस (World Oceans Day) यानी की विश्व समुद्र दिवस मनाया जाता है।

कब और कैसे हुयी विश्व महासागर दिवस (World Oceans Day) की सुरुवात ?

साल 2008 में विश्व महासागर दिवस (World Oceans Day) की शुरुआत हुयी।इससे पूर्व कनाडा सरकार ने साल 1992 में रियो डी जनेरियो में आयोजित पृथ्वी सम्मेलन के दौरान विश्व महासागर दिवस की स्थापना का प्रस्ताव रखा था। इसके बाद संयुक्त राष्ट्र ने दिसंबर 2008 में 8 जून को विश्व महासागर दिवस को आधिकारिक तौर पर मनाने की मान्यता दी। तब से ही प्रतेक वर्ष 8 जून को विश्व महासागर दिवस

महासागरों का संरक्षण करना प्रतेक व्यक्ति की जिम्मेदारी है।

कि समुद्र हमें अधिकांश ऑक्सीजन, भोजन और हवा प्रदान करते हैं। साथ ही समुद्र जलवायु स्थिर रखने में सहायक होते हैं। समुद्र कई जीव-जन्तुओ और मछलियों का घर होता है, तथा अनेको देशो की अर्थव्यवस्था में महासागरों का महत्वपूर्ण योगदान है क्युकी विशाल महासागर से पेट्रोलियम के साथ ही अनेक संसाधन भी प्राप्त होते है।और इसके अलावा मौसम में आने वाले बदलाव और जलवायु परिवर्तन की जानकारी प्रदान करने में भी महासागरों का अहम योगदान होता है,लेकिन वर्तमान समय में समुद्र और समुद्री वातावरण खतरे में हैं।इसलिए महासागरों का संरक्षण करना हम में से प्रतेक व्यक्ति की जिम्मेदारी है।

और बहुत जरुरी है कि इन्हें बचाने के लिए नीतियां तैयार की जाएं और उन नीतियों को कठोरता से लागू किया जाए।

हमारे जीवन में महासागरों की अहम भूमिका

दुनिया की करीब 30 फीसदी आबादी तटीय इलाकों में रहती है और उनका जनजीवन पूरी तरह महासागरों पर निर्भर है। महासागर खाद्य सुरक्षा, जैव विविधता, परिस्थिति संतुलन जैसी चीजों में अपनी अहम भूमिका निभाते हैं।

महासागरों से सम्बन्धित समस्याएं क्या क्या है

विश्व में देशों के विकास के साथ ही महासागरों के दूषित होने की गति भी उतनी ही तेजी से बढ़ रही है। महासागरों में गिरने वाले कल- कारखनो के दूषित जल,एवं प्लास्टिक प्रदूषण के कारण धीरे-धीरे महासागर गंदे होते जा रहे हैं।जिससे समुद्री जीवों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।लगभग 10 लाख जीवों की प्रजातियों का घर समंदर (महासागर) हैं।
और ये समुद्री जिव प्लास्टिक को अपना भोजन समझ कर गलती से खा लेते हैं और उस गलत भोजन (प्लास्टिक) को खाने की कीमत समुद्रीय जीवो को अपनी जान देकर गवानी पड़ती है। जो बहुत ही दुखद है।

अर्थव्यवस्था में महासागरों का महत्वपूर्ण योगदान

अनेको देशो की अर्थव्यवस्था में महासागरों का महत्वपूर्ण योगदान है क्युकी विशाल महासागर से पेट्रोलियम के साथ ही अनेक संसाधन भी प्राप्त होते है।और इसके अलावा मौसम में आनेवाले बदलाव और जलवायु परिवर्तन की जानकारी प्रदान करने में भी महासागरों का अहम योगदान होता है,
इसलिए महासागरों का संरक्षण करना हम में से प्रतेक व्यक्ति की जिम्मेदारी है।

2020 में विश्व महासागर दिवस (World Oceans Day)की थीम क्या है?

सबसे खास बात यह है प्रतेक वर्ष विश्व महासागर दिवस (World Oceans Day) को मनाने के लिए एक विशेष थीम का आयोजन किया जाता है। इस बार की खास ​थीम है।’एक सतत महासागर के लिए नवाचार’ (Innovation for a Sustainable Ocean) है।

आपको हमारा यह ब्लॉग पोस्ट कैसा लगा कमेंट करके अवश्य बताये

Leave a Reply