Khan sir GS youtuber khan sir trolled on social meadia

न्यूज़
Khan GS : क्यों जीएस शिक्षक खान सर को सोशल मीडिया पर ट्रोल किया गया
Khan GS

 Khan sir GS patna coaching center operator and youtuber khan sir

आरआरबी-एनटीपीसी परीक्षा में विसंगति को लेकर छात्रों का उग्र प्रदर्शन जारी है. बिहार में तो ट्रेन की बोगियों को आग के हवाले कर दिया गया. इस बवाल के पीछे कुछ कोचिंग सेंटर संचालकों का नाम सामने आ रहा है. इनमें सबसे मशहूर हैं, खान सर. आखिर कौन हैं खान सर, आइए जानते हैं.

Advertisement

रेलवे में भर्ती को लेकर छात्रों का शुरू हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. यूपी से लेकर बिहार तक छात्रों के प्रदर्शन की खबरें सामने आ रही हैं. बिहार में तो छात्रों ने ट्रेन की बोगियों में आग तक लगा दी. अब इस मामले में पटना के कुछ कोचिंग सेंटर संचालकों का नाम भी सामने आ रहा है. इनमें जो सबसे चर्चित नाम है, वह है खान सर का. आखिर कौन हैं खान सर और छात्रों के बीच क्यों हैं इतने मशहूर, आइए जानते हैं.

ठेठ देसी अंदाज में देते हैं कोचिंग

बता दें कि रेलवे की आरआरबी-एनटीपीसी (RRB NTPC) परीक्षाओं में विसंगतियों को लेकर छात्रों का विरोध प्रदर्शन जारी है. बिहार में तो आगजनी और पत्थर फेंके जाने तक की घटनाएं भी हो रही हैं. जब 24 जनवरी को पटना के राजेंद्र नगर टर्मिनल पर छात्रों ने जोरदार हंगामा किया था, तो पुलिस ने कुछ छात्रों को हिरासत में लिया था. इनके दिए बयान के आधार पर जीएस रिसर्च सेंटर कोचिंग के संचालक और यूट्यबर खान सर का नाम भी सामने आया था. देशभर में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर खान सर की काफी फैन फॉलोइंग है. खान सर का पूरा नाम फैजल खान है और वह मूलरूप से यूपी के गोरखपुर के रहने वाले हैं. कोचिंग सेंटर चलाने के साथ ही वह यूट्यूब पर फ्री क्लास भी देते हैं. उनके पढ़ाने का जो अंदाज है, वह अन्य टीचरों से बिल्कुल जुदा है. ठेठ देशी अंदाज में कक्षा देने के चलते वह छात्रों के बीच खासे फेमस हैं.

पिता व भाई दोनों फौजी

खान सर उर्फ फैजल खान बचपन से पढ़ाई में अच्छे थे. उनकी सामान्य ज्ञान में अच्छी पकड़ थी. खान सर के पिता भारतीय सेना में अफसर रहे हैं और बड़ा भाई भी सेना में कमांडो है, तो उन्होंने भी फौज में भर्ती होने की ठान ली. 12वीं पास करने के बाद नेशनल डिफेंस एकेडमी (एनडीए) की परीक्षा दी, लेकिन सेलेक्शन नहीं हो पाया. इसके बाद खान सर ने कोचिंग देनी शुरू कर दी. इसके बाद जब उन्होंने यूट्यूब पर जरनल स्टडी की क्लास देनी शुरू की, तो यूपी व बिहार के साथ ही अन्य राज्यों के छात्रों के बीच काफी फेमस हो गए. खान सर ने जनरल नॉलेज और साइंस आदि की किताबें भी लिखी हैं.

राजनीति से भी रहा रिश्ता

खान सर का राजनीति से भी रिश्ता रहा है. बिहार पंचायत चुनाव में गणित के शिक्षक विपिन सर चुनावी मैदान में थे. तब खान सर उनके लिए वोट मांगते देखे गए थे. कहा जाता है कि उनकी लोकप्रियता की वजह से ही विपिन सर की जीत हुई थी. ये भी कहा जाता है कि उसके बाद से खान सर भी राजनीतिक मंसूबा रखते हैं.

Khan GS Research Centre : GS वाले खान सर या अमित सिंह आजकल सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया जा रहा है. जानिए क्या है पूरा मामला

Khan GS Research Centre : GS वाले खान सर अपने देसी अंदाज (मजाकिया अंदाज) में जीएस (GS) पढ़ाते हैं. उनका अपना एक यू-ट्यूब चैनल है. Khan GS Research Centre (जनरल स्टडीज़) नाम के उनके यूट्यूब चैनल के 92 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं. वो समसामयिक विषय पढ़ाते हुए अपने बिहारी अंदाज में स्पेशल कमेंट भी करते जाते हैं.

खान सर ने 24 अप्रैल को एक वीडियो डाला था. फ्रांस-पाकिस्तान के संबंधों पर. इसमें एक जगह वो बताते हैं कि पाकिस्तान में फ्रांस के राजदूत को देश से वापस भेजने के लिए जमकर विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं और इन विरोध प्रदर्शनों में बच्चे भी हिस्सा ले रहे हैं. यहां पर विरोध प्रदर्शन करते बच्चे की तस्वीर को पॉइंट करके खान सर बोलते हैं 

“ई रैली में ये बेचारा बचवा है. इसको क्या पता कि राजदूत क्या चीज होता है. कोई पता नहीं है. लेकिन फ्रांस को राजदूत को बाहर ले जाएंगे. इनको कुछ पता नहीं है. बाबू लोग, तुम लोग पढ़ लो. अब्बा के कहने पर मत आओ. अब्बा तो पंचर साट ही रहे हैं (माने बना ही रहे हैं). ऐसा ही तुम लोग भी करेगा तो बड़ा होकर तुम लोग भी पंचर साटेगा. तो पंचर मत साटो वरना तुमको तो पता ही है कि कुछ नहीं होगा तो चौराहा पर बैठकर मीट काटेगा तुम. बकलोल कहीं के. बताइए, ये उमर है बच्चों को यहां पर लाने का?”

खान सर (Khan sir GS ) आगे बिना किसी जाति-धर्म का नाम लिए एक आबादी विशेष पर भी टिप्पणी कर जाते हैं.

“लेकिन क्या ही कीजिएगा? 18-19 पैदा होंगे तो किस काम में आएंगे? कोई बर्तन धोयेगा, कोई बकरी काटेगा, कोई पंचर बनाएगा.”

खान सर की पूरी बात इस वीडियो में 5 मिनट 5 सेकंड से देख सकते हैं.

बस इसी वीडियो की क्लिप अब ट्विटर पर वायरल हुई तो इसे धर्म विशेष के ख़िलाफ जानकर #ReportOnKhanSir ‘रिपोर्ट ऑन खान सर’ और ‘फेक खान सर’जैसे कई ट्रेंड्स चल रहे हैं।कोई उन्हें संघी तो कुछ लोग इस्लामोफोबिक बताते हैं.तो कोई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थक। दो गुटों में लोग बट गए जिसमें से एक उनके पक्ष में और दूसरा उनके विरोध में कमेंट्स करने लगा. साथ ही उनके कुछ वीडियोज के क्लिप्स भी शेयर किए जा रहे हैं और उन्हें ‘अमित सिंह’ बताया जा रहा है।

क्या है नाम अमित सिंह या फैजल खान ?

बात यहां तक पहुंच गई कि लोग खान सर की कुंडली खंगालने में जुट गए. कुछ ने तो वो वीडियो क्लिप भी ढूंढ निकाली जिसमें वो ये कहते दिख रहे हैं कि लोग उन्हें अमित सिंह कहकर पुकारते हैं.

ऐसे में #AmitSingh भी ट्रेंड करने लगा. इसके बाद कुछ और थ्योरी भी खान सर के नाम को लेकर सामने आ गईं जिसमें उनका गोरखपुर और इलाहाबाद कनेक्शन भी खंगाला गया और उनका नाम फैजल खान बता रहे हैं.

मामला हर पल नया मोड़ ले रहा है. खान सर ने इस बारे में अब तक कोई स्पष्टीकरण जारी नहीं किया है ऐसे में हर कोई इस मामले पर उनके जवाब का इंतजार कर रहा है.

‘टीपू सुल्तान पार्टी’ ने खान सर की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, “हमें नहीं पता कि ये व्यक्ति मुस्लिम है भी या नहीं लेकिन ये निश्चित रूप से एक संघी है।” इस ट्वीट की रिप्लाई में सलीम शेख ने कहा कि ये मुस्लिम नहीं हो सकता। वहीं किसी ने इसे ‘संघी खान’ बताया तो किसी ने दावा किया कि उनका असली नाम अमित सिंह है और उनकी अकादमी के छात्रों ने उन्हें ‘खान सर’ का नाम दे दिया है।

https://twitter.com/TSP4India/status/1396179278920704000

राहुल मिश्रा नामक यूजर ने ट्विटर पर रक वीडियो शेयर किया, जिसमें खान सर कहते दिख रहे हैं, “मोदी जी मैं आपको गारंटी देता हूँ कि आपको हराने वाले कोई होगा ही नहीं, जब तक मुस्लिम लोग आपको गाली देना नहीं छोड़ेंगे।” साथ ही उन्होंने साजिद रशीदी, शोएब जमाई और अंसार रजा जैसों के लिए ‘बकलोल’ शब्द का इस्तेमाल करते हुए कहा कि ये हिन्दुओं और मोदी को गाली देने के लिए पैसे मिलते हैं।

https://twitter.com/Rahul32649739/status/1394249431298441218

मोहम्मद समीर विंधानी ने खान सर को ‘फेक मुस्लिम’ बताते हुए लिखा कि उनका असली नाम अमित सिंह है। इसके लिए उसने खान सर के एक कथित इंटरव्यू का टेक्स्ट शेयर किया, जिसमें लिखा है कि एक बैच में उन्हें ‘फैज़ल खान’ नाम दे दिया, वरना पहले लोग उन्हें अमित सिंह कहते थे।

https://twitter.com/VindhaniMemon/status/1396442073222443012

अमित शर्मा नामक यूजर ने भी खान सर का एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि उन्होंने काफी अच्छे से सुरेश और अब्दुल के बीच का अंतर समझाया है। इसमें खान सर कहते हैं, “समास का एक प्रकार है द्वन्द समास, जिसमें एक ही चीज के 2 अर्थ होते हैं। जैसे, सुरेश ने जहाज उड़ाया। अब्दुल ने जहाज उड़ाया। दोनों के अलग-अलग अर्थ हैं। सुरेश ने जहाँ जहाज चलाया, वहीं अब्दुल ने उड़ाया मतलब भड़काया।”

एक ने तो उनकी तस्वीर शेयर कर के उनके हिन्दू होने का दावा किया। फेसबुक पर एक यूजर द्वारा शेयर किए गए वीडियो में खान सर कहते दिख रहे हैं कि पहली बार जब एक कोचिंग में गए तो वहाँ लड़के नहीं थे, लेकिन उनके पढ़ाने के बाद लड़के इतने बढ़ गए कि कोचिंग वालों के भीतर डर बैठ गया कि ये लड़के उनके पीछे न चले जाएँ, इसीलिए उन्होंने नाम व नंबर जाहिर न करने की शर्त रखते हुए उन्हें ‘खान सर’ नाम दे दिया।


थनोस नामक यूजर ने आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए भाजपा नेता मुख़्तार अबबस नकवी को ‘ओल्ड वैरिएंट’ तो खान सर की तस्वीर शेयर करते हुए ‘न्यू वैरिएंट लिखा।’ एक वीडियो में खान सर ने मुस्लिम मुल्कों के संगठन OIC के लिए ‘मदरसा छाप’ शब्द का प्रयोग किया। एक ट्विटर यूजर ने इस वीडियो को शेयर करते हुए तंज कसा कि क्या उनके खिलाफ FIR होगी?

एक ट्विटर यूजर ने दावा किया कि खान सर (Khan sir GS) आतंकवाद के खिलाफ हैं, इसीलिए मुस्लिम समाज के लोग उनका विरोध कर रहे हैं। हालाँकि, इस दौरान कई लोग खान सर के समर्थन में भी सामने आए और उनके पढ़ाने के अंदाज़ और रिसर्च की तारीफ़ की

Leave a Reply