Ahoi Ashtami Vrat 2023 | When is Ahoi Ashtami 2023 Date, Time and Significance |When is Ahoi Ashtami 2023 Date | Can we drink water in Ahoi Ashtami VRAT

हेल्थ
Ahoi Ashtami Vrat
Ahoi Ashtami Vrat

Ahoi Ashtami Vrat 2023 | When is Ahoi Ashtami 2023 | Ahoi Ashtami Date, Time and Significance | What is the date of Ahoi Mata VRAT | Can we drink water in Ahoi Ashtami VRAT
Ahoi Ashtami Niyam

Ahoi Ashtami Vrat 2023 : प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन अहोई अष्टमी का व्रत रखा जाता है। इस साल अहोई अष्टमी का व्रत 05 नवंबर रविवार के दिन रखा जाएगा। यह व्रत माताओं द्वारा अपनी संतान की तरक्की और दीर्घायु के लिए किया जाता है। इस वर्ष अहोई अष्टमी पर बहुत ही दुर्लभ संयोग बन रहा है जो बहुत ही शुभ रहने वाला है।

Ahoi Ashtami Vrat 2023: अहोई अष्टमी व्रत महिलाओं द्वारा अपनी संतान की सलामती और उज्ज्वल भविष्य के लिए रखा जाता है। अहोई अष्टमी को अहोई आठे के नाम से भी जाना जाता है। करवा चौथ की तरह अहोई अष्टमी भी एक कठिन व्रत है क्योंकि इस व्रत को भी निर्जला रखने का विधान है। इस व्रत का पारण तारों को अर्घ्य देकर किया जाता है। आइए जानते हैं कि अहोई अष्टमी के व्रत के दिन किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

Ahoi Ashtami पर बन रहा है ये दुर्लभ संयोग

अष्टमी तिथि का प्रारंभ 05 नवम्बर प्रातः 12 बजकर 59 मिनट पर हो रहा है। वहीं अष्टमी तिथि समापन 06 नवम्बर प्रातः 03: बजकर 18 मिनट पर होगा। साथ ही इस दिन रवि पुष्य योग और सर्वार्थ सिद्धि योग का शुभ संयोग भी बन रहा है। माना जाता है कि इस योग में रखे गए व्रत का साधक को दोगुना फल मिलता है

कथा सुनें

 

 Ahoi Ashtami 2023
Ahoi Ashtami 2023

अहोई अष्टमी (Ahoi Ashtami) पर भगवान शिव और माता पार्वती के साथ-साथ उनके पूरे परिवार यानी भगवान कार्तिक और गणेश जी की भी पूजा करनी चाहिए। अहोई अष्टमी की कथा सुनते समय सात प्रकार के अनाज को आपकी हथेली पर रखें और व्रत कथा सुनने के बाद गाय को मिला दें।

भोजन कराएं

पूजा के समय अपने पुत्र या पुत्री को अपने साथ बिठाएं और भगवान को भोग लगाने के बाद सबसे पहले बच्चों को प्रसाद खिलाएं। साथ ही इस दिन ब्राह्मण, जरूरतमंदों या गाय को भोजन करना भी बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है।

इन बातों का रखें ध्यान (Ahoi Ashtami Niyam)

अहोई अष्टमी के दिन मिट्टी से जुड़ा कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए। ऐसे में बगीचे आदि में भी काम करने से बचना चाहिए। साथी इस दिन नुकीली चीजों को भी इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए, इसलिए सिलाई आदि से जुड़े कार्य न करें। अहोई अष्टमी के दिन किसी बड़े का अपमान न करें, न ही किसी को अपशब्द कहें।

साथ ही इस दिन लड़ाई-झगड़ा करने से भी बचना चाहिए। ऐसा करने से आपका व्रत खंडित हो सकता है। तारों को अर्घ्य देते समय स्टील से बने लोटे का ही इस्तेमाल करना चाहिए, इसके लिए तांबे से बने लोटे का इस्तेमाल न करें।

 

FAQ :

Ahoi Ashtami Vrat
Ahoi Ashtami Vrat

Q : अहोई अष्टमी का व्रत 2023 में कब है?

Ans : 5 नवंबर, 2023 को माताएं अपने बच्चों के सुखी जीवन, उनकी खुशहाली, लंबी आयु और उनके जीवन में धन-धान्य की बढ़ोतरी के साथ ही करियर में सफलता के लिए व्रत करती हैं।

Q :अहोई अष्टमी का व्रत कब रखा जाता है?

Ans : कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन अहोई अष्टमी का व्रत रखा जाता है

Q : अहोई अष्टमी का व्रत कैसे होता है?

Ans : अहोई अष्टमी के व्रत में दिन भर उपवास रखती हैं और सायंकाल तारे दिखाई देने के समय होई का पूजन किया जाता है। तारों को करवा से अर्घ्य भी दिया जाता है।

Q : अहोई अष्टमी व्रत में क्या खाएं

Ans : व्रत खोलते समय अपनी थाली में सिंघाड़े को शामिल करें, इस खास दिन पर ये देवी को भी चढ़ाया जाता है। इसके अलवा अपनी थाली में हलवा और चना शामिल करें।

Leave a Reply