Makar sakranti 2024 | Makar Sankranti 2024 Date & Time | Makar Sankranti Kab Hai 2024 | नए साल में कब है मकर संक्रांति

आस्था
makar sakranti 2024
makar sakranti 2024

Makar Sankranti 2024 | Makar Sankranti 2024 Date & Time | Makar Sankranti Kab Hai 2024 | नए साल में कब है मकर संक्रांति

Makar Sankranti 2024 : हिंदू धर्म में प्रकृति के तत्वों को ईश्वर की मान्यता दी गई है. इसीलिए सूर्यदेव से जुड़े कई प्रमुख त्योहार मनाने की भी परंपरा है. और मकर सक्रांति (Makar Sankranti 2024) का त्यौहार सूर्य देव से जुड़ा हुआ है क्युकी मकर संक्रांति के दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं.

इस दिन से रात छोटी और दिन बड़ा होने लगता है. इसके साथ ही सूर्यदेव हर माह राशि परिवर्तन करते हैं और जब भगवान सूर्य देव शीत ऋतु में उत्तरायण होकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो यह दिन मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2024) के रूप में मनाया जाता है.मकर संक्रांति के दिन स्नान, पूजा-पाठ तिल खाने और दान-दक्षिणा की मान्यता है.

साथ ही इस दिन एक माह तक चलने वाला खरमास की अवधि समाप्ति हो जाती है और दोबारा से शुभ और मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं. भारत के अलग-अलग राज्यों में मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2024) को विभिन्न नामों से जाना जाता है। मकर संक्रांति को गुजरात में उत्तरायण, पूर्वी उत्तर प्रदेश में खिचड़ी और दक्षिण भारत में इस दिन को पोंगल के रूप में मनाया जाता है।

Makar Sankranti 2024 का पर्व सूर्य के राशि परिवर्तन के मौके पर मनाया जाता है। इस दिन सूर्यदेव धनु राशि से निकलकर मकर में प्रवेश कर जाते हैं। वैसे तो मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाती है, लेकिन साल 2023 में मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2024) की सही तिथि को लेकर थोड़ा संशय है। ऐसे में चलिए जानते हैं कि 2023 में मकर संक्रांति कब मनाई जाएगी।

यह भी पढ़े :Ghughutiya Festival In Uttarakhand

मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2024) के पावन पर्व पर पवित्र नदी में स्नान के बाद सूर्य देव की पूजा का विधान है।ऐसा करने से मनोकामना पूर्ण होती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस दिन सूर्य देव मकर राशि में आते हैं, जिसका प्रभाव न केवल सभी राशियों पर बल्कि पूरे वातावरण में पर भी पड़ता है।

Makar Sankranti 2024 के दिन दान-पुण्य करना शुभ माना जाता है। ऐसा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। साथ ही कई दोषों से भी मुक्ति मिलती है। यदि आप शनि और राहु दोष से मुक्ति पाना चाहते हैं तो मकर संक्रांति के दिन उड़द, तिल का दान, कंबल, का दान करके लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Makar sankranti 2024 me kab hai | makar sankranti 2024 shubh muhurt, puja vidhi Makar sankrant 2024 me kab hai | makarsankranti 2024 shubha muhurat and Puja vidhi | makar sankranti kya hai kese kare daan,puja makar sankrant

Makar sankranti 2024 : साल 2024 में मकर संक्रांति (makar sankranti 2024) 15 जनवरी, सोमवार को मनाई जाएगी. इस दिन सूर्य सुबह 2:54 बजे धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करेंगे.

makar sankranti 2024 का पुण्य काल सुबह 7:15 बजे से शाम 5:46 बजे तक रहेगा. इस दौरान पूजा, जप-तप, और दान किया जा सकता है. वहीं, महा पुण्य काल सुबह 7:15 बजे से 9 बजे तक रहेगा.

महा पुण्य काल में स्नान और दान करना श्रेष्ठ माना जाता है. मकर संक्रांति (makar sankranti 2024 ) के दिन स्नान करने के पानी में काले तिल डालकर नहाना चाहिए. इसके बाद सूर्य देव को जल चढ़ाना चाहिए.

makar sakranti 2024
makar sakranti 2024

FAQ :

Q : मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

Ans: ऐसी मान्यता है कि इस दिन Makar Sankranti) भगवान भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाते हैं। चूँकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, अत: इस दिन को मकर संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है।

Q :मकर संक्रांति की शुरुआत कब से हुई?

Ans: 14 जनवरी को मकर संक्रांति पहली बार 1902 में मनाई गई थी। इससे पहले 18 वीं सदी में 12 और 13 जनवरी को मनाई जाती थी। वहीं 1964 में मकर संक्रांति पहली बार 15 जनवरी को मनाई गई थी।कुछ सालों से ये पर्व 14 नहीं बल्कि 15 और 16 जनवरी को मनाया जा रहा है।

Q :मकर संक्रांति का शुभ समय क्या है?

Ans:5 जनवरी को मकर संक्रांति है। इस दिन पुण्य काल प्रातः काल 07 बजकर 15 मिनट से लेकर संध्याकाल 05 बजकर 46 मिनट तक है। इस अवधि में पूजा, जप-तप और दान कर सकते हैं। वहीं, महा पुण्य काल सुबह 07 बजकर 15 मिनट से लेकर 09 बजे तक है

Q :मकर संक्रांति के दिन क्या खाना चाहिए?

Ans:इस दिन पवित्र नदी में स्नान करने, सूर्य को अर्घ्य देने, पूजा करने, दान करने के साथ ही तिल, गुड़, रेवड़ी आदि का सेवन करने का महत्व है. इस दिन खिचड़ी का सेवन करना अनिवार्य माना जाता

Leave a Reply