Bal Mithai Recipe in Hindi | Uttrakhand ki famous mithai | Almora Ki Bal Mithai | Uttarakhand Ki Famous Methai | उत्तराखंड की प्रसिद्ध बाल मिठाई | अल्मोड़ा की बाल मिठाई और सिंगोड़ी

हेल्थ
Bal Mithai Recipe in Hindi
Bal Mithai Recipe in Hindi

Bal Mithai Recipe in Hindi | Uttrakhand ki famous mithai | Almora Ki Bal Mithai | Uttarakhand Ki Famous Methai | उत्तराखंड की प्रसिद्ध बाल मिठाई | अल्मोड़ा की बाल मिठाई और सिंगोड़ी

Baal Mithai :  बाल मिठाई ( Bal Mithai ) उत्तराखंड (Uttarakhand) अल्मोड़ा (almora) की एक बहुत ही लोकप्रिय मिठाई (popular dessert of Uttarakhand) है। यह विशेष रूप से अल्मोड़ा (Almora) के लाल बाज़ार में बनाया जाता है, और उसके आसपास के क्षेत्रों में प्रसिद्ध है।

बाल मिठाई

Advertisement
(Bal Mithai) भारत के उत्तराखंड राज्य (Uttarakhand) की एक लोकप्रिय मिठाई है। यह भुने हुए खोये पर चीनी के सफेद दानों के लेप द्वारा बनायी जाती है और दिखने में चॉकलेट जैसी होती है। यह उत्तराखण्ड (Uttarakhand) के कुमाऊं मंडल में समान रूप से सभी क्षेत्रों में प्रसिद्ध है।इस मिठाई का स्वाद इतना लाजवाब है कि पर्यटक और यहां के लोगों की ये फ़ेवरेट मिठाई बन गई.

दुनिया का कोई कोना ऐसा नहीं होगा जिनके व्यजनों में मिठाई ( Bal Mithai ) न आती हो. भारत की ही बात करें तो यहां के अलग-अलग राज्यों में विभिन्न प्रकार की मिठाईयां काफी मशहूर है. चाहे बंगाल के रसगुल्ले हों, आगरा का पेठा या मथुरा का पेड़ा. हैदराबाद की बिरयानी और लखनऊ के टुंडे कबाब उनकी पहचान बन गए हैं.

उसी तरह उत्तराखंड की बाल मिठाई (Uttarakhand Ki Famous Methai Bal Mithai) भी उसकी पहचान बन गई है. खासकर कुमाऊं प्रांत के अल्मोड़ा शहर जो कि बाल मिठाई के शहर के नाम से भी जाना जाता है.आज के sangeetaspen.com माध्यम से आपको उत्तराखंड के कुमाऊ क्षेत्र की पहचान बन चुकी बाल मिठाई का इतिहास बताएंगे.

बाल मिठाई को उत्तराखंड की चॉकलेट भी कहा जाता है. एक ऐसी चॉकलेट जिसे कोको बीन्स से नहीं, बल्कि खोए से बनाया जाता है. बाल मिठाई की ख़ासियत ये है कि ये खाने में कुरकुरी लगती है. इस मिठाई का स्वाद इतना लाजवाब है कि पर्यटक और यहां के लोगों की ये फ़ेवरेट मिठाई बन गई.

कुमाऊं क्षेत्र में बाल मिठाई ( Bal Mithai ) लगभग 7वीं – 8वीं सदी में नेपाल से उत्तराखंड आई थी। ये अल्मोड़ा कैसे पहुंची इसके प्रमाण तो नहीं हैं पर ये अल्मोड़ा की पहचान है। विद्वानों का यह भी मानना है कि बाल मिठाई (Bal Mithai) शुरू में सूर्य देवता को अर्पित किया जाने वाला प्रमुख प्रसाद रहा होगा।

जोगाराम को जाता है बाल मिठाई को शुरू करने का श्रेय

बाल मिठाई (Bal Mithai) को 20वीं सदी में प्रसिद्ध करने का श्रेय जाता है, लाला जोगाराम को. बताते हैं कि अल्मोड़ा के लाल बाज़ार में उनकी दुकान हुआ करती थी. उस समय सिर्फ उनकी दुकान में ही ये मिठाई बनाई जाती थी. ऐसा कहते हैं कि जोगाराम जी बाल मिठाई बनाने के लिए डेयरी प्रोडक्ट्स के लिए मशहूर एक गांव से स्पेशल क्रीम वाला दूध मंगवाते थे.

इस गांव का नाम था फालसीमा. यहां से आए दूध से वो खोया बनाते थे. इससे वो पहले भूरे रंग की बर्फ़ी तैयार करते थे और फिर बाद में उस पर चाशनी में भीगे हुए खसखस के दाने लपेट देते थे

और भी हैं रोचक तथ्य

इस संबंध में एक रोचक तथ्य ये भी है कि अल्मोड़ा की बाल मिठाई (Bal Mithai) अंग्रेजों को खूब पसंद आती थी. ऐसे संकेत मिले हैं जिससे पता चलता है कि अंग्रेज अफसर क्रिसमस के मौके पर एक दूसरे को भेंट के तौर पर बाल मिठाई भेजते थे

Bal Mithai Recipe in Hindi
Bal Mithai Recipe in Hindi

ऐसे तैयार होती है ये स्पेशल मिठाई

खोये में चीनी मिलाकर खोये को तब तक पकाया जाता है, जब तक कि वह दिखने में चॉकलेट के सामान नहीं हो जाता। उसे कुछ समय तक जमने दिया जाता है और फिर आयताकार टुकड़ों में काट कर चीनी के सफेद दानों से सजाया जाता है।आज बाल मिठाई (Bal Mithai) सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि अमेरिका, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में भी बड़े ही चाव से खाई जाती है.

बाल मिठाई (Bal Mithai) तथा सिंगोरी लंबे समय से ही अल्मोड़ा जनपद की विशेषता रही है। कुमाऊं मंडल में मुख्य रुप से यह अल्मोड़ा की बाल मिठाई (Bal Mithai) के नाम से भी प्रसिद्ध है क्योंकि अल्मोड़ा जनपद में इसे अधिकाधिक रुप से बनाया जाता है जिस कारण अल्मोड़ा जनपद को एक उपनाम “बाल मिठाई का घर” नाम से भी पुकारा जाता है।

स्थानीय मिठाई निर्माताओं को बौद्धिक संपदा अधिकार और भौगोलिक संकेत सुरक्षा के बारे में बताने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं, ‘भौगोलिक संकेत के माल अधिनियम, 1999’ के द्वारा वे लोग स्थानीय व्यंजनों की बाल मिठाई और सिंगोरी के लिए पेटेंट की मांग कर सकते हैं।

बाल मिठाई के लिए दो अड्डे विशेष रूप से प्रसिद्ध

एक जोगा शाह की बाल मिठाई (Bal Mithai) दूसरा खीम सिंह मोहन सिंह की बाल मिठाई. इनमें पहले बाल मिठाई निर्माता इस बात का दावा करते हैं की सन 1865 में पहली बार बाल मिठाई का आविष्कार उनके पूर्वजों द्वारा किया गया.

बाल मिठाई बनाने के लिए सामग्री (Ingredients for making “Bal Mithai”)

खोया 1 KG
घी 3 -4 चमच
पानी – 1 लीटर
चीनी 500 ग्राम
सफेद चीनी की बॉल्स या फिर खस-खस (Khas Khas) 100 ग्राम

बाल मिठाई कैसे बनाये (How to make Bal Mithai)

  • इस स्वादिष्ट बाल मिठाई (Bal Mithai) रेसिपी को तैयार करने के लिए कम आंच पर एक नॉन स्टिक पैन गर्म करें। खोये को पैन में डालें और खोआ को धीमी आग पर पकाएं और लगातार चलाएं।
  • तब तक पकाते रहिये जब तक इसका रंग गहरे भूरे रंग में न बदल जाए।
  • एक और “पैन’ ले और उसमे पानी और चीनी को गर्म करे तब तक करे जब तक की चीनी पूरा ना मिश्रण (चाशनी) न हो जाये
  • एक बार खोआ भूरे रंग के गहरे में बदल जाये अब इसमें 300 ग्राम चीनी डालें और फिर से पकाएं।याद रखें इसे हिलाते रहें। ताकि यह जले नहीं और चीनी घुलने तक पकाएं।
  • अब धीरे-धीरे पतली चाशनी डालें। इसे तब तक मिलाएं जब तक कि सारा पानी खोये के साथ मिक्स न हो जाए।
  • अब इसे फिर से 5-8 मिनट तक पकाएं। एक प्लेट में निकाल लें और चम्मच से फैला दें। यदि मिश्रण ठंडा होने पर प्लेट से निकल जाए तो यह तैयार है।
  • आयताकार टुकड़ों में काटें और उन्हें चीनी बॉल्स या फिर खस-खस (Khas Khas) में रोल करें और
    बाल मिठाई ( Bal Mithai ) रेसिपी सर्व करे
Bal Mithai Recipe in Hindi
Bal Mithai Recipe in Hindi

Q:बाल मिठाई के लिए उत्तराखंड में कौन सा शहर प्रसिद्ध है?

ANS:उत्तराखंड में सबसे अच्छी बाल मिठाई अल्मोड़ा में मिलती है

Q: उत्तराखंड की राजकीय मिठाई कौन सी है?

ANS:बाल मिठाई भारत के उत्तराखंड राज्य की एक लोकप्रिय मिठाई है। यह भुने हुए खोये पर चीनी की सफेद गेंदों के लेप द्वारा बनायी जाती है, और दिखने में भूरे चॉकलेट जैसी होती है। यह उत्तराखण्ड के कुमाऊं मंडल में समान रूप से सभी क्षेत्रों में प्रसिद्ध है।

Q: बाल मिठाई कैसे बनाते हैं?

ANS:बाल मिठाई को उत्तराखंड की चॉकलेट भी कहा जाता है. एक ऐसी चॉकलेट जिसे कोको बीन्स से नहीं, बल्कि खोए से बनाया जाता है. बाल मिठाई की ख़ासियत ये है कि ये खाने में कुरकुरी लगती है. इस मिठाई का स्वाद इतना लाजवाब है कि पर्यटक और यहां के लोगों की ये फ़ेवरेट मिठाई बन गई

Q:दुनिया की सबसे अच्छी मिठाई कौन सी है?

ANS:रबड़ी बनारस में रबड़ी की धूम है। …
संदेश संदेश एक बंगाली मिठाई है जिसे खाते ही आपके मुंह में पानी आ जाएगा। …
काजू कतली यह मारवाड़ी मिठाई है जो कि पूरे भारत में फेमस है। …
लड्डू कोई भी खुशी का मौका हो, लड्डू जरुर खाने को मिल जाते हैं। …
बर्फी यह गाढ़े दूध और चीनी को मिला कर बनाई जाती है। …
मैसूर पाक …
रसमलाई …
मालपुआ

Leave a Reply