Tooth whitening | how to whiten teeth | Top Best tips how to whiten teeth instantly

हेल्थ
Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi
Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi

Table of Contents

Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi|

Tooth whitening  : दुनिया में किसी भी इंसान की मुस्कुराहट उसके व्यक्तित्व का प्रतीक होती है. मुस्कुराहट में चार चांद हमारे दांत (Oral Health Day) ही लगाते हैं,सुन्दर, चमकदार और सफेद दांत हर किसी के चेहरे पर बिखरी मुस्कान को चार चांद लगा देते हैं। चमकते मोती से दांत सिर्फ स्वस्थ दांतों के लिए ही नहीं बल्कि अट्रैक्टिव पर्सनालिटी के लिए भी जरूरी है ।

आपकी हंसी के साथ अगर आपके दांत पीले दिख जाए तो सरेआम आप हंसी के पात्र बन जाते हैं। वहीं, दूसरी ओर आज के दौर में हम में से ज्यादातर लोग पीले दांतों से परेशान हैं पीले, कमजोर और गंदे दांत इसी खूबसूरती पर दाग लगा देते हैं।

Advertisement

आज के समय में ऐसे दांत पाने के लिए लोग केमिकल युक्त उत्पादों (tooth whitening treatment) पर पानी की तरह पैसा बहाते हैं और परिणामस्वरूप दांतों के पीलेपन का सामना करना पड़ता है। तो चलिए कुछ ऐसे घरेलू उपाय (नुस्खे) (Home Remedies for Teeth Whitening and what is the best teeth whitening kit in hindi) जानते हैं जिससे हमारे दांत चमकदार हो जाएं. दांतों की सफाई और उन्हें सुन्दर बनाने के उपाय जानने से पहले उन कारणों के बारे में बात करते हैं, जिनकी वजह से दांत पीले होते हैं।

Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi
Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi

Home Remedies for Teeth Whitening | पीले दांत को सफेद करने के लिए क्या करना चाहिए ?

Teeth Whitening Tips: अक्सर आपने गौर किया होगा कि जब भी हम किसी से बात करते हैं तो हमारा सबसे पहले ध्यान सामने वाले के दांतों (Teeth) पर जाता है.कई बार रोजाना अच्छी तरह से दांतों को साफ करने के बाद भी दांतों में पीलापन (Yellow Teeth)आ जाता है तो कई बार साफ-सफाई और हाइजीन का पूरा ध्यान न रखना भी इसका एक कारण हो सकता है।

ऐसे में अगर आपके दांत भी पीले हो गए हैं तो डेंटिस्ट के पास जाकर महंगा ट्रीटमेंट (teeth whitening cost in india) करवाने से पहले एक बार इन घरेलू नुस्खों को अपनाकर देखें। इनसे आप घर बैठे ही बड़ी आसानी से महज 5 मिनट में दांतों का पीलापन दूर कर पाएंगे।

दांत पीले क्यों होते हैं ?

दांत पीले होने के कारण – Causes of Yellow Teeth in Hindi

पहले दांत पीले होने के कुछ कारणों को जानिए जिसे अवॉयड करना चाहिए जैसे कि गलत खान-पीन की वजह से भी दांतों में पीलापन आता है। फास्ट फूड, मीठा हमारे दांतों पर चिपक जाता हैं जो दांतों को पीला बनाता है। सबसे पहले तो अपने खान-पान का ध्यान रखें। ऐसे फल और सब्जियों को खाएं जिन्हें चबाने की जरूरत पड़े।

दांत पीले होने के अन्य कारण –Yellow Teeth in Hindi

आहार: कुछ खाद्य पदार्थों में टैनिक एसिड उच्च मात्रा में होता है, जैसे कि रेड वाइन आदि। यह टैनिक एसिड दांतों के पीलेपन का कारण बन सकता है इसके अलावा, कॉफी और सोडे से भी दांत पीले हो सकते हैं। ये आपके दांतों के इनेमल में मिल जाते हैं। और लंबे समय तक दांतों के पीलापन का कारण बन सकते हैं।

धूम्रपान: धूम्रपान पीले दांतों के मुख्य कारणों में से एक है। धूम्रपान से होने वाला दांतों का पीलापन जिद्दी दाग जैसा हो सकता है

बीमारी: कुछ मेडिकल ट्रीटमेंट से भी दांतों का पीलापन बढ़ सकता है। जिन लोगों की कीमोथेरेपी चल रही होती है, उन्हें दांतों का पीलापन का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा, अस्थमा और उच्च रक्तचाप की दवाइयों से भी दांतों का पीलेपन बढ़ सकता है।

मुंह की सफाई में लापरवाही: मुंह की सफाई में लापरवाही भी पीले दांतों के कारणों में से एक है। नियमित रूप से और सही तरीके से ब्रश न करने से दांतों का पीलापन बढ़ता है। साथ ही दांत कमजोर होकर टूट भी सकते हैं

फ्लोराइड: अत्यधिक फ्लोराइड का संपर्क भी दांतों का पीलापन बढ़ाने का एक कारण है, खासकर बच्चों में इसके लक्षण ज्यादा देखे गए हैं।

दांत की सफाई के घरेलू इलाज – Home Remedies for Teeth Whitening in Hindi

आपको टीथ व्हाइटनिंग (Tooth whitening) के तमाम बाजारू इलाज मिल जाएंगे कई ब्रांड के टूथपेस्ट, मंजन आदि पर इनसे ज्यादा प्रभावी इलाज आपको अपने किचन में मिलेंगे जो दांतों को सफेद और सुंदर करेंगे और साथ ही आपके बजट में भी होंगे

ये घरेलु टिप्स आपको किसी भी तरह के साइड इफ़ेक्ट नहीं करेंगे इन घरेलू उपायों से दांत न सिर्फ सुंदर होंगे, बल्कि आकर्षक और मजबूत भी हो जाएंगे।तो चलिए जानते हैं टीथ व्हाइटनिंग (what is the best teeth whitening kit in hindi) के असरदार घरेलू उपचार।

how to whiten teeth instantly | how to whiten yellow teeth

दूध – दूध से बनने वाले उत्पादों का सेवन ज्यादा करें क्योंकि उसमें कैल्शियम होता हैं जो दांतों के लिए बहुत जरूरी है। चाय कॉफी का सेवन लिमिटेड मात्रा में ही करें।

पीपल की जड़ – दांतों की समस्या को दूर करने के लिए पीपल के पेड़ की जड़ काफी कारगर साबित होती है। इससे आपको प्राकृतिक रूप से चमकदार दांत प्राप्त होंगे। आप इसे एक टूथब्रश की तरह भी इस्तेमाल में ला सकते हैं। पीपल की जड़ लेकर दांत साफ़ करें और इसे फेंक दें। इनके एस्ट्रिंजेंट गुण दांतों को चमकदार और स्वस्थ बनाने में काफी फायदेमंद साबित होते हैं।

स्ट्रॉबेरी – स्ट्रॉबेरी में मैलिक एसिड मौजूद होता है, जो एक नैचुरल व्हाइटनिंग एजेंट है जो स्लाइवा के प्रॉडक्शन को बढ़ाकर दांतों को सफेद बनाता है। एक स्ट्रॉबेरी को मैश कर लें और टूथब्रश की मदद से दांतों पर हल्के से रगड़े और 5 मिनट बाद अच्छी तरह धो लें। ऐसा हफ्ते में एक बार जरूर करें। स्ट्रॉबेरी में अच्छी मात्र में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी होता है जो दांत सफ़ेद करने के मदद करता है।

तुलसी – ये तो हम सब जानते हैं कि तुलसी का प्रयोग घर में पूजा के लिए किया जाता है, पर इसके कई औषधीय गुण भी होते हैं। तुलसी में दांतों को चमकाने एवं दांतों एवं मुंह की समस्याओं को दूर करने के गुण होते हैं। दांतों को पीलेपन से बचाने के लिए तुलसी के पत्ते तोड़ें और इन्हें धूप में कुछ घंटों के लिए रखें। एक बार इनके सूख जाने पर इन्हें पीस लें। आप तुलसी की सूखी पत्तियों के साथ सरसों के तेल का मिश्रण करके दांतों की मालिश भी मसाज करें।

नमक – नमक में सोडियम और क्लोराइड दोनों शामिल होता है, जो दांतों का पीलापन कम करने के लिए कारगर है। हफ्ते में दो तीन बार नमक में सरसो का तेल मिलाकर दांतो का मसाज करें।

नीम – नीम में दांत सफेद बनाने और बैक्टीरिया खत्म करने के लाजवाब गुण पाए जाते हैं। इसके एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टी की वजह से ये दांतों को सभी रोगों से दूर भी रखता है.पीलापन हटाने के लिए रोजाना नीम की दातून से दांत साफ करें।

नींबू – एक नींबू का रस निकालकर उसमें सामान मात्रा में ही पानी मिला लें। खाने के बाद इस पानी का कुल्ला करें। रोजाना ऐसा करने से दांतों का पीलापन और सांसों की दुर्गंध दूर हो जाती है।

बेकिंग सोडा – बेकिंग सोडा पीले दांतों को सफेद बनाने का सबसे बेस्ट घरेलू तरीका है। ब्रश करने के बाद थोड़ा सा बेकिंग सोडा से दांतों की मसाज करें और मुंह धो लें इससे दांतों पर जमी पीली पर्त साफ हो जाएगी।

दातून – एक गलास पानी में आधा नींबू निचोड़ें और इसमें रातभर दातुन रख दें। सुबह इसी दातुन का इस्तेमाल करें। इससे दांतों का पीलापन खत्म हो जाएगा। यदि आप प्रतिदिन दातुन नहीं कर सकते तो सप्ताह में एक दिन जरूर दातुन अवश्य करें। इससे दांत और मसूड़े स्वस्थ व मजबूत भी होते हैं ।

सेब – सेब की अम्लता दाँतों को सफ़ेद करने में मदद करती है। सेब अच्छी तरह से चबाकर खाएं। इसमें तंतु की अच्छी मात्र होती है जो दांतों को सफ़ेद करने में मदद करती है।

लकड़ी का कोयला – रोज के टूथपेस्ट में लकड़ी के कोयले का पाउडर मिलाएं और इससे हल्के हांथो से दांत सांफ करें । कोयले के पाउडर का दिन में 2 बार इस्तेमाल करने से आपके दांत चमकने लगेंगे।

संतरे का छिल्का – संतरे का विटामिन सी दाँतों के कीटाणुओं को मारता है। यह दांतों को मजबूत और ज्यादा सफ़ेद करता है। तो अब से जब भी मौका मिले रात को सोने से पहले संतरे के छिलके से दांत घिसें।

केले का छिलका – केला पोषक पदार्थों से भरपूर होता है। केले के छिलकों से भी कई लाभ मिल सकते हैं। केले के छिलको में पोटैशियम, मैग्नीशियम और मैंगनीज़ जैसे पोषक पदार्थ मौजूद होते हैं। इन पदार्थों की मदद से आपके दांत चमकदार बन सकते हैं। केले का थोड़ा सा छिलका लें और इसके सफ़ेद भाग को दांतों पर 2 से 3 मिनट तक घिसें। इसके बाद इसे 15 मिनट के लिए छोड़ दें और किसी अचछे टूथपेस्ट से दांतों को साफ़ करें। 2 से 3 हफ़्तों तक ऐसा करने पर आपको बेहतर रिजल्ट नजर आने लगेगा।

किशमिश – किशमिश इस्तेमाल से आपके पीले दांत सफ़ेद हो सकते हैं। जब भी आपको समय मिले तो किशमिश चबाना शुरू कर दें। इससे मुंह के अंदर लार बनेगी और प्लाक पूरी तरह हट जाएगा।

फल और सब्जियों का सेवन करें – फल और सब्जियों की अधिकता वाला भोजन न सिर्फ आपके शरीर बल्कि दांतों के लिए भी बहुत अच्छा माना जाता है। हालांकि ये दांतों को ब्रश करने का विकल्प नहीं है। लेकिन इसके बाद भी कच्चे फल और सब्जियों का चबाकर सेवन करने से दांतों पर जमे प्लाक को रगड़कर निकलने का मौका मिलता है।

दूध और दही- आपके दांतों को अच्छे से स्वास्थ्य के लिए कैल्शियम और फॉस्फोरस की आवश्यकता होती है। आप दूध और दही के मिश्रण की सहायता से पीले दांतों की समस्या को दूर कर सकते हैं। इससे आपके दांतों के इनेमल में खनिज की मात्रा दोबारा भर जाती है। चमकदार दांतों के लिए यह काफी बेहतरीन उपाय है।

ऑयल पुलिंग – तेल से कुल्ला करना पारंपरिक भारतीय उपाय है जिसका मकसद ओरल हाइजीन को बेहतर बनाना और शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालना होता है। इस काम के लिए थोड़ी मात्रा में तेल को मुंह में लेकर चारों तरफ घुमाना होता है। इससे मुंह और दांतों में प्लाक या गंदगी की वजह बनने वाले बैक्टीरिया हट जाते हैं। यही बैक्टीरिया दांतों के पीले दिखने का भी कारण होते हैं।

तेल से कुल्ला करें – पारंपरिक रूप से भारतीय तेल से कुल्ला करने के लिए सूरजमुखी या तिल के तेल का इस्तेमाल करते रहे हैं, लेकिन आप किसी भी तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। ज्यादातर लोग नारियल तेल को काफी पसंद करते हैं। क्योंकि इसका स्वाद और खुशबू काफी अच्छी होती है और हेल्थ को काफी फायदा भी पहुंचाती है। इसके अलावा नारियल तेल में भारी मात्रा में लॉरिक एसिड (Lauric Acid) पाया जाता है, इसे जलन कम करने और बैक्टीरिया मारने के अपने गुणों के लिए जाना जाता है

teeth whitening cost in india |tooth whitening treatment |hydrogen peroxide |how to whiten teeth instantly
teeth whitening cost in india |tooth whitening treatment |hydrogen peroxide |how to whiten teeth instantly

पीले दांत को सफेद करने के कूछ अन्य उपाय

  • सेब का सिरका

सामग्री :
1 चम्मच सेब का सिरका
1 कप पानी से भरा हुआ
विधि :
सबसे पहले पानी में सेब का सिरका अच्छी तरह से मिलाएं।
फिर सुबह ब्रश करने से पहले इस पानी से गरारे करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इसे हफ्ते में 2-3 बार सुबह के समय करें।

फायदा :

सेब के सिरके से दांतों को ब्लीच करना आपके दांतों के लिए फायदेमंद होता है। इसमें पाया जाने वाला हल्का एसिड दांतों से पीलेपन को हटाकर उन्हें चमकदार बनाता है। सेब का सिरका दांतों को सफेद बना सकता है।

  • बेकिंग सोडा और लाइम जूस

सामग्री :
1 चम्मच बेकिंग सोडा
1 चम्मच नींबू का रस
1 टूथब्रश

विधि :
बेकिंग सोडा और नींबू के रस को मिलाएं।
टूथब्रश के साथ, इस पेस्ट को अपने दांतों पर लगाएं।
इसे 2-3 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर अपने मुंह को पानी से धो लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

शुरुआत में इसे सप्ताह में दो बार करें और फिर 7-10 दिन के बाद दिन में एक बार इसका उपयोग करें।

फायदा :
बेकिंग सोडा को सोडियम बाइकार्बोनेट भी कहा जाता है। यह लगभग हर घर की रसोई में पाया जाता है। दांतों की सफाई के नुस्खे में भी इसका उपयोग हो सकता है। यह तासीर में हल्का खुरदुरा होता है और दांतों पर जम चुके पीले दाग को मिटाने में मदद करता है

  • नमक और नींबू

सामग्री :
1 चम्मच सफेद नमक
2 चम्मच नींबू का रस
विधि :
नींबू के रस और नमक को मिलाएं।
इस मिश्रण का उपयोग टूथपेस्ट के रूप में करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

ऐसा हफ्ते में दो बार करें।

फायदा :
दांतों को चमकाने के घरेलू उपाय में नींबू के रस का महत्व है। इसमें प्राकृतिक ब्लीचिंग गुण होता है (9), जिस कारण दांतों का पीलापन हट सकता है। वहीं, नमक में एक्सफोलिएंट गुण होता है, जिससे दांत की सफाई में मदद मिल सकती है। इससे दांतों का पीलापन और दाग दूर होते हैं .

  • चारकोल

सामग्री :
चारकोल का पाउडर
टूथब्रश
विधि :
टूथब्रश को गीला करें और इस पर चारकोल लगाएं।
अब दो मिनट तक आराम-आराम से अपने दांतों को ब्रश से साफ करें।
अब पानी से अच्छी तरह से कुल्ला कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इसे हफ्ते में एक या दो बार करें।

फायदा :
चारकोल गंदगी को अवशोषित कर दांतों को प्रभावी ढंग से जल्दी सफेद करता है। यह कैविटीज को रोकने, बैक्टेरिया को दूर करने और दांतों व मसूड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में उपयोगी है। आजकल तो बाजार में चारकोल वाले ब्रश भी उपलब्ध हैं।

  •  स्ट्रॉबेरीज

सामग्री :
1 स्ट्रॉबेरी
1 चम्मच बेकिंग सो

विधि :
स्ट्रॉबेरी को मैश करके उसमें बेकिंग सोडा मिलाएं।
फिर इस मिश्रण को अपने दांतों पर लगाने के लिए टूथब्रश या अपनी उंगली का उपयोग करें।
इसे लगाकर कुछ मिनट के लिए छोड़ दें।
इसके बाद कुल्ला कर लें फिर रोज की तरह ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए

इस विधि को सप्ताह में एक बार किया जा सकता है।

फायदा :
स्ट्रॉबेरी में मौजूद विटामिन सी मसूढ़ों को मजबूत करने के साथ ही दांतों का पीलापन भी घटाता है और दाग हल्के होते हैं। इसके नियमित उपयोग के बाद देखेंगे कि दांत और चमकीले हो गए हैं

सामग्री :
1 नीम का दातुन

विधि :
नीम के दातुन को गर्म पानी से धो लें।
फिर इससे दांत साफ करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इस प्रकार दांत की सफाई हर दिन कर सकते हैं ।

फायदा :
नीम का उपयोग बहुत पहले से ही दांतों की सफाई के लिए किया जाता है। इसके नियमित उपयोग से आपके दांत और मसूड़े बिना किसी पीलेपन के स्वस्थ रहेंगे।

सामग्री :
1 चम्मच हल्दी पाउडर
1 टूथब्रश
विधि :
अपने टूथब्रश पर हल्दी पाउडर छिड़कें और ब्रश करें।
इसके बाद इसे 2-3 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर अच्छी तरह से कुल्ला कर लें।
इसके बाद सामान्य टूथपेस्ट से ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

ऐसा करने से तुरन्त ही सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा। अगरग आवश्यक हो, तो कुछ दिनों के बाद इस दांतों की सफाई के नुस्खे को फिर से दोहराएं।

फायदा :
हल्दी के पाउडर का हल्का खुरदुरापन दांतों से गहरे दाग हटाने में मदद करता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीमाइक्रोबियल, हेपेटोप्रोटेक्टिव, इम्युनोस्टिमुलेंट, एंटीसेप्टिक और एंटीमुटाजेनिक जैसे गुणों के कारण, यह दंत चिकित्सा में भी काफी उपयोगी है। यह आपके दांतों और मसूड़ों को मजबूत और बैक्टेरिया से मुक्त बनाता है, इसके अलावा नीम का अर्क, पाउडर और पेस्ट भी एंटीप्लेक के रूप में किया जाता है। एक शोध के अनुसार जिन बच्चों ने नीम की दातुन का उपयोग किया उनके दांत मजबूत थे ।

  • पेरोक्साइड से कुल्ला – hydrogen peroxide 
    सामग्री 

1 कप हाइड्रोजन पेरोक्साइड
1 कप गुनगुना पानी
विधि :
पानी के साथ हाइड्रोजन पेरोक्साइड मिलाकर एक घोल बना लें।
इस घोल से 30-40 सेकंड तक गरारे करें और इसे थूक दें।
फिर सादे पानी से कुल्ला कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इस दांत साफ करने के तरीके को सप्ताह में दो बार दोहराएं। ध्यान रखें कि इसको निगलें नहीं, सिर्फ कुल्ला करें।

फायदा :
दांतों की सफाई के घरेलू उपचार के तौर पर हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें ब्लीचिंग के गुण पाए जाते हैं। दांतों के डॉक्टर भी इलाज के दौरान इसका उपयोग करते हैं ।

  • नारियल का तेल
    सामग्री :
    2 चम्मच नारियल का तेल

विधि :
अपनी उंगलियों से नारियल के तेल को अपने दांतों पर आराम-आराम से रगड़ें, लेकिन आप इसे निगले नहीं।
इसके बाद पानी से कुल्ला करें और फिर ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

रोजाना सुबह इस दांतों को चमकाने के घरेलू उपाय को करें।

फायदा :
नारियल तेल में मौजूद लॉरिक एसिड में एंटी-माइक्रोबियल व एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इस कारण से यह दांतों में प्लाक पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करता है। यह आपकी सांसों को ताजा रखने में भी मदद करता है (16)।

  • ऑरेंज ऑयल


    सामग्री :
    ऑरेंज ऑयल की 2-3 बूंदें
    1 टूथपेस्ट
    1 टूथब्रश
    विधि :
    सबसे पहले अपने टूथब्रश पर ऑरेंज ऑयल लगाएं और फिर उस पर टूथपेस्ट लगाएं।
    इसके बाद अपने दांत ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

एक या दो सप्ताह तक रोज सुबह इस दांतों की सफाई के नुस्खे को आजमाएं।

फायदा :
संरते के तेल को संतरे के छिलके से तैयार किया जाता है। यह दांतों को सफेद करने में सहायक होता है। साथ ही इसमें एंटीफंगल गुण भी होते हैं, जिस कारण से यह दांतों को ठीक रखने में मदद करता है (17), (18)।

तिल का तेल
सामग्री :
1 बड़ा चम्मच तिल का तेल

विधि :
सुबह खाली पेट 15-20 मिनट तक तेल को अपने मुंह में धीरे-धीरे घुमाते रहें, लेकिन ध्यान रहे कि इसे निगलें नहीं।
इसके बाद तेल को थूक दें और पानी से कुल्ला कर लें। आप चाहें तो इस पानी में एक चुटकी नमक भी मिला सकते हैं।
इसके बाद रोज की तरह ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

हर सुबह एक बार इस प्रकार दांत की सफाई कर सकते हैं।

फायदा :
तिल के तेल में सेसमिन, सेसमोलिन और सेसमिनोल के साथ ही डिटॉक्सिफिकेशन, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीबायोटिक गुण होते हैं। इन सभी गुणों के कारण तिल का तेल न सिर्फ दांतों के धब्बे साफ करता है, बल्कि उन्हें मजबूती भी देता है (19)।

  • संतरे का छिलका


    सामग्री :
    संतरे का छिलका

विधि :
संतरे के छिलके को अपने दांतों पर एक या दो मिनट के लिए रगड़ें।
इसके बाद रोज की तरह ब्रश पर टूथपेस्ट लगाकर ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

आप हफ्ते में एक दिन छोड़कर दांत सफेद करने के तरीके को कर सकते हैं।

फायदा :
दांतों की सफाई के घरेलू उपचार के रूप में संतरे के छिलकों को इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें ब्रोमेलैन नामक एक एंजाइम होता है, जो दांतों को सफेद करता है और यह एंटीबैक्टीरियल व एंटीमाइक्रोबियल के रूप में भी काम करता है ।

सेंधा नमक
सामग्री :
थोड़ा-सा सेंधा नमक
2 चम्मच पानी
1 टूथब्रश
विधि :
सेंधा नमक को पानी में मिला कर पेस्ट बनाएं।
इस पेस्ट से अपने दांतों को ब्रश करें।
बचे हुए नमक-पानी के घोल में थोड़ा और पानी मिलाएं और इससे गरारे करें।
इसके बाद सादे पानी से गरारे करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इस दांतों को चमकाने के घरेलू उपाय को हफ्ते में 2-3 बार करें।

फायदा :
सेंधा नमक दांतों पर बनने वाली पीलेपन की धुंधली परत को साफ करता है। साथ में ही यह जीवाणुरोधी भी है (21)।

  • अमरूद की पत्तियां


    सामग्री :
    1-2 अमरूद के पत्ते

विधि :
अमरूद की पत्तीओं को पीस कर पेस्ट बना लें।
इस पेस्ट को अपने दांतों पर हल्के-हल्के रगड़ें और एक या दो मिनट के लिए छोड़ दें।
फिर कुल्ला करके दांतों की सफाई करें और टूथपेस्ट से ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इसे कुछ दिनों तक रोज करें।

फायदा :
अमरूद की पत्तियों का उपयोग दांतों की सफाई के घरेलू उपचार के लिए किया जाता है। इससे मुंह का संक्रमण और मसूड़ों की सूजन का इलाज किया जा सकता है। इसमें मौजूद फ्लेवोनोइड्स दांतों पर होने वाले ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस के प्रभाव को कम करते हैं, जो दांतों के पीलेपन के कारणों में से एक है ।

  • तेल से मंजन


    सामग्री :
    थोड़ा-सा नारियल, सूरजमुखी या नारंगी तेल

विधि :
सुबह मंजन करने के पहले थोड़ी देर तक तेल को दांतों पर मलें।
इसके बाद पानी से कुल्ला कर लें।
फिर ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए

इस दांत साफ करने के तरीके को हफ्ते में 3-4 बार कर सकते हैं।

फायदा :
दांत की सफाई के उपाय में ऑयल स्विंग थेरेपी एक पारंपरिक प्रक्रिया है। इसमें मुंह के अंदर तेल को मलते हैं। यह चिकित्सा मुंह की बीमारियों को ठीक करने वाली है। विभिन्न प्रकार के तेल को दातों पर मलने से मसूड़े की सूजन को कम किया जा सकता है ।

  • केले का छिलका


    सामग्री :
    केले का छिलका
    1 कप गुनगुना पानी
    विधि :
    केले के छिलके को छोटे टुकड़ों में काट लें।
    एक टुकड़ा लें और उसके अंदर के हिस्से को एक या दो मिनट तक अपने दांतों पर आराम-आराम से रगड़ें।
    इसके बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर दांत की सफाई करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए 

इस दांत साफ करने के तरीके को रोज कर सकते हैं।

फायदा :
केले के छिलके में मैंगनीज और पोटैशियम जैसे खनिज होते हैं, जो दांत सफाई के उपाय में से एक हैं। ये दांतों को सफेद करने में मदद करते हैं।

दांतों की सफाई के नुस्खे के बाद आइए अब जानते हैं कि हम क्या खाएं और क्या न खाएं, ताकि दांत ठीक रहें।

दांतों की सफाई के लिए आहार- Food for Teeth Whitening in Hindi

दांतों की सुंदरता और मजबूती सिर्फ दांत की सफाई पर ही निर्भर नहीं करती है, बल्कि खान-पान पर ध्यान देना भी जरूरी है। यहां दांत सफाई के उपाय के रूप में कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बता रहे हैं।

Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi
Tooth whitening | how to whiten teeth | what is the best teeth whitening kit in hindi

फाइबर युक्त फल और सब्जियां : अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन (एडीए) का कहना है कि फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ आपके दांतों और मसूड़ों को साफ रखने में मदद करते हैं। इन खाद्य पदार्थों से लार भी बनती है, दांतों पर हमला करने वाले एसिड और एंजाइम के प्रभाव को कम करने का काम करती है।

डेयरी उत्पाद : दूध और अन्य डेयरी उत्पादों में कैल्शियम व फास्फेट होता है। ये उन खनिजों को सुरक्षित करने में मदद करते हैं, जो दांत वअन्य हानिकारक खाद्य पदार्थों के कारण खो सकते हैं। ये दांतों के प्राकृतिक इनेमल को सही करने का काम करते हैं।

ग्रीन और ब्लैक टी: दोनों में पॉलीफेनोल्स होते हैं, जो दांतों के बैक्टीरिया को मारते हैं। यह उन बैक्टीरिया को बढ़ने या एसिड को बनने से रोकते हैं, जो दांतों के लिए नुकसानदायक हैं।

चीनी रहित च्युइंग गम: इससे भी मुंह में लार का निर्माण होता है, जो मुंह के लिए फायदेमंद है। साथ ही इससे दांतों में जाम खाद्य पदार्थों को निकालने में भी मदद मिलती है।
फ्लोराइड युक्त खाद्य पदार्थ: फ्लोराइड युक्त पीने का पानी या कोई भी अन्य उत्पाद जो फ्लोराइड युक्त हैं, दांतों के विकास में मदद करता है।

इनसे रहें दूर

चिपचिपी कैंडी और मिठाई: वो सभी मिठाइयां और कैंडी जाे दांतों से चिपक जातीं हैं और फिर दांतों काे सड़ाने वाले बैक्टीरिया को उत्पन्न करती हैं।

स्टार्च युक्त खाद्य पदार्थ: कुछ खाद्य पदार्थ दांतों में फंस जाते हैं और फिर दांतों को सड़ाने का कारण बनते हैं। उदाहरण के लिए, मुलायम ब्रेड और आलू के चिप्स आपके दांतों के बीच फंस सकते हैं।

कार्बोनेटेड पेय पदार्थ : ऐसे पेय पदार्थों में शुगर की मात्रा ज्यादा होती है। इन्हें पीने से दांत का पीलापन बढ़ता है और इनेमल को भी नुकसान होता है।

मुंह को सूखाने वाले पदार्थ : शराब और कई दवाएं ऐसी हैं, जो मुंह को सुखा देती हैं, जिसका असर दांतों पर पड़ता है। इससे दांत कमजोर हो जाते हैं और जल्दी ही गिरने भी लगते हैं।

दांतों को स्वस्थ और मजबूत रखने के कुछ खास टिप्स / उपाय

दांतों पर गंदगी जमने ही न दें –आपके दांत उम्र बढ़ने के साथ प्राकृतिक रूप से पीले होते जाते हैं, लेकिन कुछ चीजों की मदद से दांतों पर गंदगी जमने से रोका जा सकता है।आप सफेद दांत चाहते हैं तो शक्कर का इस्तेमाल कम से कम करें। ज्यादा मात्रा में चीनी या शक्कर के सेवन से स्ट्रेपटोकोक्स म्यूटन (Streptococcus Mutans) की ग्रोथ बढ़ती है। यही वो प्राथमिक बैक्टीरिया है जिससे प्लाक (Plaque) और जिंजिवाइटिस (Gingivitis) की समस्या होती है।इसीलिए जब भी मीठे पदार्थों का सेवन करें तो खाने के तुरंत बाद ब्रश करना न भूलें।

भोजन में प्रचुर मात्रा में कैल्श्यिम का सेवन करें – कैल्शियम युक्त सभी आहार, जैसे, दूध, पनीर और ब्रोकली, आपके दांतों से एनामेल की परत को नुकसान पहुंचने से रोक सकते हैं। भोजन में यदि पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम का सेवन किया जाए तो इससे दांतों के क्षरण को रोकने के साथ ही हड्डियों को मजबूत बनाने में भी मदद मिल सकती है। कैल्शियम शरीर की अन्य क्रियाओं को बेहतर बनाने के लिए भी बहुत जरूरी है।

ब्रश और फ्लॉसिंग का महत्व समझें –नियमित रूप से ब्रश और फ्लॉस करने से दांतों को न सिर्फ स्वस्थ रखा जा सकता है। बल्कि मुंह में बैक्टीरिया की ग्रोथ के साथ ही प्लाक जमने की मात्रा को भी सीमित किया जा सकता है। टूथपेस्ट आमतौर पर दांतों के ऊपर जमे दागों को हल्के से घिसकर निकालते हैं।

वहीं फ्लॉस उन बैक्टीरिया को हटाता है जिनकी वजह से प्लाक जमने की समस्या होती है। नियमित रूप से दांतों की सफाई करने से दांत साफ और चमकदार रहते हैं।
दांतों की सफाई के घरेलू उपचार व खान-पान के बारे में जानने के बाद अब हम कुछ खास टिप्स देने जा रहे हैं।

दांतों को चमकाने के लिए कुछ और टिप्स – Tips for Teeth Whitening in Hindi

  • दांतों की सफाई के लिए दिन में कम से कम दो बार ब्रश करें। सॉफ्ट ब्रिसल्स वाले ब्रश आपके मसूड़ों के लिए अच्छे होते हैं।
  • फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का उपयोग करें। फ्लोराइड दांत के इनेमल को सख्त करने में मदद करते हैं और दांताें को टूटने से बचाते हैं।
  • दांतों की सफाई के लिए रोजाना फ्लॉस जरूर करें।
  • बोतल बंद शीतल पेय पदार्थों का सेवन न करें।
  • शर्करा युक्त भोजन सीमित मात्रा में करें। ये दांतों में बैक्टीरिया बनाने का एक कारण हो सकते हैं।
  • अपने दांतों को चोट से बचाएं। खेलते समय माउथगार्ड पहनें।
  • अगर कोई दांत हिल रहा है, तो दांत बचाने की कोशिश करें। संभव हो तत्काल दांतों के डॉक्टर की सलाह लें।
  • नियमित चेकअप के लिए अपने डेंटिस्ट से मिलें। दांत दर्द या मसूड़ों से खून आने जैसी समस्या होने पर तुरंत डेंटिस्ट के पास जाएं।


निष्कर्ष (Conclusion)

ऐसी कई प्राकृतिक विधियां हैं जो दांतों को सफेद बनाने में मदद कर सकती हैं। ज्यादातर विधियों में दांतों की ऊपरी सतह को घिसकर दाग हटाने की विधि बताई जाती है। हालांकि ज्यादातर डेंटिस्ट दांतों को सफेद करने के लिए केमिकल ट्रीटमेंट का सहारा लेते हैं जो प्राकृतिक या घरेलू उपायों से कहीं ज्यादा स्ट्रांग होते हैं।

डॉक्टर दांतों को ब्लीच करने के साथ ही दांतों का रंग बदलने की समस्या को ज्यादा कारगर तरीके से दूर कर सकते हैं। लेकिन दांतों को सफेद बनाने वाले प्रोडक्ट के ज्यादा इस्तेमाल से दांतों को नुकसान भी पहुंच सकता है। कभी भी दांतों पर कुछ भी नया आजमाने से पहले हमेशा डेंटिस्ट की सलाह लेना न भूलें।

सोचिए बिना दांतों के आपका जीवन कैसे होगा?

इसलिए, जीवन में दांतों की उचित देखभाल जरूरी है । sangeetaspen.com ने इस आर्टिकल के जरिए बताने का प्रयास किया है कि दांतों को मजबूत और सुंदर बनाने के लिए क्या जरूरी है और किन चीजों से परहेज करना चाहिए। दांतों की सुंदरता के बारे में यह आर्टिकल आपको कैसा लगा नीचे दिए कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही इस संबंध में कोई प्रश्न है, तो उसे भी शेयर करें। sangeetaspen.com प्रमाण सहित उसका जवाब देने का प्रयास करेंगे।

Leave a Reply